10 Line Mahila Diwas- Women Day पर निबंध

10 Line Mahila Diwas Women Day – किसी भी देश की तरक्की में जितना योगदान पुरषों का होता है उतना ही योगदान महिलाओं का भी होता हैं जिनके बिना मानव समाज की कल्पना भी नहीं कि जा सकती हैं इसलिए हर साल महिला दिवस यानी Women Day मनाया जाता हैं।

अक़्सर हमें स्कूलों व कॉलेजों में निबंध व भाषण लिखने के लिए दिए जाते है इसलिए आज हम आपको महिला दिवस यानी Women Day पर 10 लाइन में छोटे निबंध प्रदान करें रहे हैं उम्मीद है आपको हमारे द्वारा लिखे गए निबंध पसंद आयगे

10 Line Mahila Diwas Women Day short essay hindi

औऱ आप भी हमें महिला दिवस- Women Day पर 10 लाइन निबंध लिखकर भेज सकते हैं जोकि यूनिक व ओरिजनल होना चाहिए जिसकों हमारी वेबसाइट के माध्यम से हजारों लोग पढ़ेगें इसके लिए हमारे इस फेसबुक पेज पर मैसज करें।

10 Line Mahila Diwas Women Day Hindi- 1

1. महिला दिवस विश्व भर की महिलाओं के लिये एक सम्मान दिवस है।

2. यह दिवस सबसे पहले 28 फ़रवरी 1909 को अमरीका की समाजवादी पार्टी के नेतृत्व में मनाया गया इसके बाद यह फरवरी के आखिरी रविवार को मनाया जाने लगा।

3. 1910 में कोपेनहेगन में एक सम्मेलन में इसे अन्तर्राष्ट्रीय स्वरूप दिया गया इसका उद्देश्य महिलाओं को मतदान का अधिकार दिलवाना था क्योंकि उस समय अधिकतर देशों में महिलाओं को मतदान का अधिकार नहीं था।

4. जर्मनी की महिला कार्यकर्ता क्लारा जेटकिन के प्रयासों के फलस्वरूप 1910 में महिला दिवस को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाने की सहमति दी गई।

5. 1917 में रूस की महिलाओं ने महिला दिवस पर अपने अधिकारों के लिये हड़ताल पर जाने का फैसला किया इसके बाद ज़ार को सत्ता छोड़नी पड़ी और फिर जो सरकार बनी उसने तुरंत ही महिलाओं को वोट देने का अधिकार दे दिया।

6. उस समय रूस में जुलियन कैलेंडर और बाकी दुनिया में ग्रेगेरियन कैलेंडर चलता था जुलियन कैलेंडर के अनुसार यह दिन 23 फरवरी का था जब की ग्रेगेरियन कैलैंडर के अनुसार वह दिन 8 मार्च का था।

7. इस समय पूरी दुनिया में ग्रेगेरियन कैलैंडर चलता है इसलिए 8 मार्च महिला दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।

8. 19 मार्च 1911 को पहला अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस ऑस्ट्रिया, डेनमार्क और जर्मनी में आयोजित किया गया इसके बाद 1921 में इसे बदलकर 8 मार्च कर दिया गया तब से महिला दिवस पूरी दुनिया में 8 मार्च को ही मनाया जाता है।

9. महिला दिवस के दिन महिलाओं के सम्मान में बहुत से सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते है तथा कई देशो में इस दिन महिलाओं को अवकाश दिया जाता है।

10. विश्व को महिलाओं का मह्त्व समझने में काफी देर लगी शायद अब भी बहुत सारे लोगो का यह समझना बाकी है कि महिलाओं की सांझेदारी के बिना किसी भी समाज का विकास असम्भव है।


10 Line Mahila Diwas Women Day Hindi- 2

1. महिलाओं के शोषण की कहानी कोई आज की नही है और न ही यह केवल हमारे देश की है।

2. 1908 में 15 हजार महिलाओं ने न्यूयॉर्क शहर में एक मार्च निकालकर नौकरी में कम घंटों की और पुरुषो के बराबर वेतन की मांग की थी।

3. फैक्‍ट्री में काम करने वाली महिलाओं की हड़ताल के बाद 1909 में पहली बार पूरे अमेरिका में 28 फरवरी को महिला दिवस मनाया गया।

4. इसके एक साल बाद 1910 में क्लारा जेटकिन ने कोपेनहेगन में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का सुझाव दिया औऱ सभी महिलाओं ने इस सुझाव का समर्थन किया।

5. फिर 1911 में ऑस्ट्रि‍या, डेनमार्क, जर्मनी और स्विटजरलैंड में लाखों महिलाओं ने सरकारी संस्थानों में एक जैसे अधिकार और मताधिकार में समानता पाने के लिये रैली निकाली थी इसके बाद इन देशों ने 19 मार्च को महिला दिवस के रूप में मान्‍यता दी।

6. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 1917 में महिलाओं की हड़ताल ने वहां के सम्राट निकोलस को पद छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया था और अगली सरकार ने फौरन महिलाओं को मतदान का अधिकार दे दिया।

7. जिस दिन महिलाओं ने यह हड़ताल शुरू की थी वह तारीख जूलियन केलेंडर के अनुसार 23 फरवरी थी औऱ ग्रेगेरियन कैलेंडर में 8 मार्च था। अधिकतर विश्व में ग्रेगेरियन केलेंडर को ही मान्यता प्राप्त है इसलिए अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को ही मनाया जाने लगा।

8. 1975 में महिला दिवस को आधिकारिक मान्यता दे दी गई और संयुक्त राष्ट्र ने इसे प्रतिवर्ष एक थीम के साथ मनाना शुरू किया व अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की पहली थीम थी ‘सेलीब्रेटिंग द पास्ट, प्लानिंग फॉर द फ्यूचर’

9. हमारी संस्कृति में नारी को देवी का रूप माना जाता रहा है। हमारे देश में महिलाओं का पतन मुगल काल के समय हुआ। उनको घर की चारदीवारी में रखना,  घूंघट प्रथा और बाल विवाह उनकी अस्मिता को बचाने के लिये ही शुरु हुए थे पर धीरे धीरे लोगो ने इसे रिवाज़ समझ लिया।

10. आज हमारा देश स्वतंत्र है पर केवल महिला दिवस मना कर समाज अपने कर्तव्य की इतिश्री समझ लेता है अधिकतर महिलाओं को उनके वह अधिकार अभी तक वापिस नही मिल सके है जो आदिकाल से महिलाओं के पास थे।


10 Line Mahila Diwas Women Day Hindi- 3

1. महिला दिवस उन महिलाओ को याद करने का दिन है जिन्होने महिलाओ को उनके अधिकार दिलवाने के लिये अथक प्रयास किये।

2. 1910 में जर्मन क्रांतिकारी क्लारा जेटकिन ने सबसे पहले आठ मार्च को महिला दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा।

3. हमारे देश मे भी तारा बाई शिन्दे, सावित्री बाई फूले और पंडिता रामाबाई देश जैसी महिलाओं ने सभी महिलाओं को उन्नति की ओर अग्रसर होने के लिये प्रेरित किया।

4. 1917 में सोवियत रूस में महिलाओं को मतदान का अधिकार मिला जिसके बाद यहां 8 मार्च का दिन राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाने लगा।

5. 1975 में संयुक्त राष्ट्र ने 8 मार्च को महिलाओं के सम्मान दिवस के रूप में मनाना शुरू कर दिया तथा 1977 में संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली में 8 मार्च को महिला दिवस के रूप में मनाये जाने की घोषणा की गई।

6. 27 देशों में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर राष्ट्रीय अवकाश रहता है जिसमें नेपाल, अफगानिस्तान जैसे कई छोटे देश भी शामिल है।

7. 1975 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने इस दिन हर वर्ष के लिए वार्षिक विषयवस्तु को अपनाना शुरू किया पहला विषय था “अतीत का जश्न, भविष्य के लिए योजना”

8. भारत में सरोजनी नायडू द्वारा किए गए कार्यों को सम्मान देते हुए 2014 से उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाने लगा उनका जन्म 13 फरवरी 1879 को हुआ था।

9. इस दिन लोग महिलाओं को फूल या उपहार देकर उनको सम्मान देते है तथा कुछ देशों में इस दिन महिलाओं को अवकाश भी दिया जाता है।

10. हमारे देश में इस दिन विभिन्न कार्य क्षेत्रों से जुडी हुई महिलाओं को उनकी उपलब्धियों के लिये सम्मानित किया जाता है तथा कई सरकारी और गैर सरकारी संस्थाएं गरीब महिलाओं की आर्थिक सहायता भी करती है।


10 Line Mahila Diwas Women Day Hindi- 4

1. अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास 1857 से शुरु होता है जब न्यूयॉर्क शहर में कपड़ो के कारखाने में काम करने वाली महिलाएं अपने काम की अवधि में कमी और कार्य व्यवस्था में सुधार की मांग करते हुए जुलूस निकाल कर सड़कों पर उतरी थी।

2. फिर 1909 में 15,000 महिलाओं ने न्यूयॉर्क में काम के अधिक घन्टे, कम वेतन व मताधिकार की कमी का विरोध  किया था।

3. जर्मनी की क्लारा ज़ेटकिन ने 1910 में कोपेनहेगन में कामकाजी महिलाओं की एक सभा में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का सुझाव दिया था उस सभा में 17 देशों की 100 महिलाएं उपस्थित थीं उन सभी ने इस सुझाव का समर्थन किया।

4. 1910 में महिलाओं की समस्याओं को लेकर बीजिंग में एक विश्व सभा बुलाई गई तभी से प्रतिवर्ष 8 मार्च को महिला दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

5. सबसे पहले साल 1911 में ऑस्ट्रिया, डेनमार्क, जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया था।

6. 1917 में युद्ध के दौरान रूस की महिलाओं ने हड़ताल करके वहां के सम्राट निकोलस को पद छोड़ने पर मजबूर कर दिया और महिलाओं के हौंसलो को देखते हुए अग्रिम सरकार ने अपनी सत्ता को बनाए रखने के लिये महिलाओं को मतदान का अधिकार दे दिया।

7. कई देशों में इस दिन राष्ट्रीय अवकाश की घोषणा की जाती है चीन में महिलाओं को आधे दिन की छुट्टी दी जाती है और अमरीका में मार्च का महीना ‘विमेन्स हिस्ट्री मंथ’ के तौर पर मनाया जाता है।

8. भारत में भी महिला दिवस व्यापक रूप से मनाया जाने लगा है कई संस्थाएं इस दिन गरीब महिलाओं की मदद भी करती है।

9. कई जगह सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिनमे कला, संगीत, फिल्म, साहित्य, शिक्षा आदि के क्षेत्रों में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली महिलाओं को पुरुस्कार आदि से सम्मानित किया जाता है।

10. भारत में स्वतंत्रता सैनानी सरोजनी नायडू के जन्म तिथि 13 फ़रवरी को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है सरोजिनी नायडू का जन्म 13 फरवरी 1879 को हैदराबाद में हुआ था। वर्ष 2014 से हमारे देश में महिला दिवस सरोजिनी नायडू के जन्मदिवस पर मनाया जाने लगा।


10 Line Mahila Diwas Women Day Hindi- 5

1. अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की स्थापना का श्रेय क्लारा जेटकिन को जाता है क्योंकि सबसे पहले उन्होनें ही 1910 में कोपेनहेगन में एक सम्मेलन का आयोजन किया जिसमें 17 देशों की 100 महिलाओं ने भाग लिया।

2. अमरीका में 28 फरवरी 1909 को पहली बार राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया।

3. 19 मार्च 1911 को आस्ट्रिया, डेनमार्क, जर्मनी और स्विट्जरलैंड में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया उसके बाद 1913 में इसे बदल कर 8 मार्च कर दिया। 1975 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने पहली बार 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया था।

4. भारत में भी अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है बहुत से महिला संगठन इस दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन करते हैं कई समाजसेवी संस्थाओं द्वारा गरीब महिलाओं को आर्थिक मदद भी दी जाती है।

5. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2020 में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नारी शक्ति सम्मान प्राप्त करने वाली महिलाओं को अपना ट्विटर अकाउंट सौंप दिया था।

6. भारत का राष्ट्रीय महिला दिवस 13 फरवरी को मनाया जाता है क्योँकि इसी दिन भारत कोकिला कही जाने वाली सरोजिनी नायडू का जन्म हुआ था।

7.  सरोजिनी नायडू स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ ही स्त्रियों के अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाली प्रमुख कार्यकर्ता थीं व सरोजिनी नायडू भारत की पहली महिला राज्यपाल थी।

8. सरोजिनी नायडू की 135वीं जयंती पर 13 फरवरी 2014 को राष्ट्रीय महिला दिवस मनाए जाने की शुरुआत की गई।

9. भारतीय महिला संघ और अखिल भारतीय महिला सम्मेलन के सदस्यों द्वारा प्रस्ताव पारित किये जाने के बाद हमारे देश में  सरोजिनी नायडू के जन्मदिवस पर महिला दिवस मनाया जाने लगा।

10. इस दिन हमारे देश में महिलाओं के सम्मान में बहुत से कार्यक्रमों का आयोजन होता है और महिलाओं को उनकी कुशलताओं के लिये पुरुस्कृत भी किया जाता है।

छठ पूजा पर निबंध प्रदूषण समस्या पर निबंध
दीवाली पर निबंध सोशल मीडिया पर निंबध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ दहेज पर निबंध
जन्माष्टमी पर निबंध
ग्लोबल वार्मिंग निबंध
रक्षाबंधन पर निबंध
आज का पंचांग देखें
जन्माष्टमी पर निबंध
होली पर निबंध
ओणम पर निबंध
नवरात्रि पर निबंध

तो दोस्तों हमने आपको Mahila Diwas Women Day पर 10 लाइन निबंध अलग-अलग प्रकार के लिखे हैं अगर आपको हमारे यह निबंध पसंद आते हैं तो आप अपनी आवश्यकता के अनुसार स्कूलों में इनका इस्तेमाल कर सकते हैं और साथ ही आपको भी इसके बारे में लोगों को अवगत करना चाहिए।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया 10 Line Mahila Diwas निबंध काफी पसंद आए होंगे तो अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आता है तो उसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो हमे कमेंट करें

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मेरा नाम HP Jinjholiya है और इस Blog पर हर रोज नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी और अगर आप भी हमारे साथ काम करना चाहतें है हमें मेल करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.