Kal Ka Shubh Muhurat- आज और कल का शुभ मुहूर्त कितने बजे देखें

WhatsApp Channel Join
3.9/5 - (19 votes)

Kal Ka Shubh Muhurat: भारत में “शुभ मुहूर्त” देखने की प्रथा प्राचीन काल से चलती आ रही है और इसका उल्लेख हिंदू पौराणिक कथाओं में देखने को मिलता है इसलिए भारत में किसी भी काम को करने से पहले आज का शुभ मुहूर्त देखा जाता है साथ ही आगे दिन के लिए कल का शुभ मुहूर्त का समय बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है और इसका पालन किया जाता है।

शुभ मुहूर्त का निर्धारण किसी विशेष समय में ग्रहों व तारों की स्थिति से किया जाता है और ऐसा माना जाता है कि शुभ मुहूर्त में ब्रह्मांड की ऊर्जा व्यक्ति या घटना के पक्ष में होती है और सफलता की संभावना अधिक होती है इसलिए लोग शादियों, व्यापारिक सौदों, गृहप्रवेश समारोहों और अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं के लिए आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त जानने के लिए ज्योतिषियों या पुजारियों से परामर्श करते हैं।

हालांकि लोग अपने महत्वपूर्ण कामों और निर्णयों के लिए सबसे अच्छा समय निर्धारित करने के लिए ज्योतिषियों और पुजारियों के पास जाते हैं परन्तु आज के डिजिटल दौर में आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप हमारी वेबसाइट की मदत से आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त क्या रहेगा हर रोज इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

आज का शुभ मुहूर्त क्या है


आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त की गणना पंचांग या हिंदू कैलेंडर का उपयोग करके की जाती है जिसमें विभिन्न कारकों जैसे कि ग्रहों और सितारों की स्थिति, चन्द्रमा, सूर्य, राशि चिन्ह और अन्य शुभ संकेत शुभ मुहूर्त के निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार धार्मिक त्योहारों व समारोहों के दौरान शुभ मुहूर्त देख जाता है जैसे सूर्योदय या सूर्यास्त का समय सूर्य देव को अर्घ्य देने के लिए शुभ माना जाता है वहीं नवरात्रि या दिवाली का समय सोना खरीदने और नए व्यवसाय शुरू करने के लिए शुभ माना जाता है और सोमवार को नया काम को शुरू करने या निवेश करने के लिए शुभ माना जाता है जबकि गुरुवार को शादियों के लिए शुभ माना जाता है इस प्रकार भारत की संस्कृति और परंपराओं हमेशा से इनका पालन किया जाता है।

तो अगर आप आज कोई विशेष काम कर रहे है या फिर किसी काम को करने के लिए सबसे अच्छा समय निर्धारित करना चाहते है तो हम आपको आज का शुभ मुहूर्त क्या है इसकी जानकारी प्रतिदिन अपडेट करते है तो चलिए आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त कितने बजे है जानते है।

आज सोने का भाव आज का पंचांग
आज का चौघड़िया आज का राहु काल

आज और कल का शुभ मुहूर्त


अधितकर लोगो किसी भी काम को करने से पहले शुभ और अशुभ समय को देखते है हम आपके लिए हर रोज Aaj Ka Shubh Muhurat अपडेट करते रहते है जिसमे आपको आज के पंचांग में शुभ मुहूर्त, चौघड़िया, राहुकाल, तिथि-नक्षत्र, योग, पक्ष, वार इत्यादि सभी की जानकारी प्रदान की जाती है।

अगर आप कल कोई महत्वपूर्ण काम करने वाले है तो हम आपको आने वाले दिन यानि Kal Ka Shubh Muhurat क्या होगा उसकी भी जानकारी प्रदान कर रहे ताकि आज और कल दोनों का शुभ मुहूर्त देख! इसलिए हम आपके लिए यहाँ हर रोज Kal Ka Shubh Muhurat अपडेट करते रहते है तो निचे क्लिक करें और देखें!

शुभ मुहूर्त कौन कौन से होते हैं


हिंदू धर्म में मुहूर्त को महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यह किसी विशेष गतिविधि या घटना के परिणाम को प्रभावित करते हैं ऐसा माना जाता है कि सही मुहूर्त का चयन सफलता और समृद्धि की संभावना को बढ़ाता है जबकि अशुभ मुहूर्त के चयन से प्रतिकूल परिणाम हो सकते हैं।

मुहूर्त दो प्रकार के होते हैं एक तो शुभ मुहूर्त और दूसरा अशुभ मुहूर्त तथा दिन और रात को मिलाकर कुल मिलाकर 30 मुहूर्त होते हैं जिसमें 15 शुभ मुहूर्त होते है तो चलिए विस्तार से इनके बारे में जानते हैं।

रुद्र मुहूर्त

रुद्र मुहूर्त को वैदिक ज्योतिष और हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण मुहूर्तों में से एक माना जाता है और यह मुहूर्त आक्रामकता, शक्ति और साहस से संबंधित गतिविधियों जैसे सैन्य अभियान, सर्जरी और खेल आयोजनों के लिए अनुकूल माना जाता है साथ ही “रुद्र” शब्द का अर्थ है “गर्जना करने वाला” और भगवान शिव से जुड़ा है जो अपने उग्र और शक्तिशाली रूप के लिए जाने जाते हैं।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार रूद्र मुहूर्त प्रात: काल में प्रात: 4:30 से 6:00 बजे के बीच होता हैं और यह समयावधि शक्ति, ऊर्जा और आक्रामकता से संबंधित किसी भी गतिविधि को शुरू करने के लिए आदर्श मानी जाती है ऐसा माना जाता है कि इस दौरान ब्रह्मांड की ऊर्जा अपने चरम पर होती है और इस मुहूर्त के दौरान कोई भी गतिविधि शुरू करने से सफलता और समृद्धि मिल सकती है।

हिंदू धर्म में रुद्र मुहूर्त को विभिन्न अनुष्ठानों और अनुष्ठानों को करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है जैसे इस मुहूर्त के दौरान रुद्राभिषेक जिसमें भगवान शिव की प्रार्थना-अर्चना की जाती है और ऐसा माना जाता है कि रुद्र मुहूर्त में भक्त को आशीर्वाद, समृद्धि और खुशी मिल मिलती है साथ ही इस मुहूर्त के दौरान कोई भी चिकित्सा या उपचार शुरू करने से प्रभावी परिणाम मिल सकते हैं।

श्वेत मुहूर्त

वैदिक ज्योतिष और हिंदू धर्म में श्वेत मुहूर्त को सबसे शुभ मुहूर्तों में से एक माना जाता है और यह मुहूर्त पवित्रता, बुद्धि और ज्ञान से संबंधित कार्यों जैसे विद्या, शिक्षा और किसी नए प्रोजेक्ट को शुरू करने के लिए अनुकूल माना जाता है साथ ही “श्वेत” शब्द का अर्थ है “श्वेत” और यह पवित्रता और स्वच्छता से जुड़ा है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार श्वेत मुहूर्त सुबह 5:00 बजे से 6:00 बजे के बीच होते हैं तथा यह समय अवधि ज्ञान और सीखने से संबंधित किसी भी गतिविधि को शुरू करने के लिए आदर्श मानी जाती है ऐसा माना जाता है कि इस दौरान ब्रह्मांड की ऊर्जा अपने चरम पर होती है और इस मुहूर्त के दौरान कोई भी गतिविधि शुरू करने से सफलता और समृद्धि मिल सकती है।

हिंदू धर्म में श्वेत मुहूर्त को विभिन्न अनुष्ठानों को करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है जैसे इस मुहूर्त के दौरान सरस्वती पूजा जिसमें ज्ञान की देवी सरस्वती की पूजा और प्रार्थना-अर्चना की जाती है ऐसा माना जाता है कि श्वेत मुहूर्त आध्यात्मिक उन्नति और विकास से संबंधित कार्यों के लिए सबसे अनुकूल होते हैं।

मित्र मुहूर्त

वैदिक ज्योतिष में मित्र मुहूर्त का विशेष महत्व है और मित्र मुहूर्त, जिसे “मैत्रीपूर्ण” के रूप में भी जाना जाता है जो महत्वपूर्ण कार्यों, समारोहों और अनुष्ठानों को करने के लिए विशेष रूप से फायदेमंद माना जाता है।

मित्र मुहूर्त को दो श्रेणियों में बांटा गया है एक तो दिन के समय का मित्र मुहूर्त और दूसरा रात के समय का मित्र मुहूर्त जोकि समान रूप से शुभ माना जाता है।

दिन के समय मित्र मुहूर्त विशेष रूप से नई परियोजनाओं या व्यवसायों को शुरू करने, अनुबंधों पर हस्ताक्षर करने और किसी भी अन्य गतिविधि के लिए अच्छा माना जाता है जिसमें जोखिम लेने का तत्व शामिल होता है और यह मुहूर्त आमतौर पर सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच होते हैं और इन्हें बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को विशेष रूप से शुभ माना जाता है।

दूसरी ओर रात के समय का मित्र मुहूर्त आध्यात्मिक या धार्मिक अनुष्ठान करने, एक नया शिक्षा कार्यक्रम शुरू करने और किसी भी अन्य गतिविधि के लिए आदर्श माने जाते हैं जिसमें ध्यान और एकाग्रता की आवश्यकता होती है और यह मुहूर्त आमतौर पर रात 10 बजे से सुबह 4 बजे के बीच होते हैं, और इन्हें सोमवार, बुधवार और गुरुवार को विशेष रूप से शुभ माना जाता है।

सारभट मुहूर्त

वैदिक ज्योतिष में सारभट मुहूर्त अत्यधिक शुभ मुहूर्त माने जाते हैं जो महत्वपूर्ण कार्यों, समारोहों और अनुष्ठानों के लिए विशेष रूप से लाभकारी माने जाते हैं और सारभट मुहूर्तों को भी दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है एक दिन का सारभट मुहूर्त और रात का सारभट मुहूर्त।

दिन के सारभट मुहूर्त को नए व्यवसाय या उद्यम शुरू करने के लिए अत्यधिक शुभ माना जाता है जबकि रात के सारभट मुहूर्त को आध्यात्मिक या धार्मिक समारोहों के लिए आदर्श माना जाता है।

दिन के समय सारभट मुहूर्त आमतौर पर सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे के बीच माने जाते हैं जबकि रात के समय सारभट मुहूर्त शाम 7 बजे से रात 10 बजे के बीच होते हैं साथ ही सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को ये मुहूर्त विशेष रूप से शुभ माने जाते हैं।

सावित्र मुहूर्त

हिंदू धर्म में सावित्र मुहूर्त शुभ मुहूर्तों में से एक होता है और माना जाता है कि किसी भी उद्यम की सफलता या विफलता पर इसका गहरा प्रभाव पड़ता है ऐसा माना जाता है कि इन मुहूर्तों के दौरान कोई भी गतिविधि करने से सफलता की संभावना बढ़ जाती है और व्यक्ति के लिए समृद्धि और सौभाग्य लाता है।

सावित्री मुहूर्त के दौरान की जाने वाली कुछ सबसे महत्वपूर्ण गतिविधियों में विवाह, नया व्यवसाय शुरू करना, नई संपत्ति या वाहन खरीदना, नया अनुबंध या समझौता करना और यहां तक कि एक बच्चे का नामकरण भी शामिल है।

ऐसा माना जाता है कि सावित्र मुहूर्त के दौरान इन गतिविधियों को करने से यह सुनिश्चित होता है कि वे सफलतापूर्वक किए जाते हैं और व्यक्ति के लिए समृद्धि और सौभाग्य लाते हैं। सवित्र मुहूर्त बहुत शक्तिशाली माने जाते हैं और ऐसा माना जाता है कि इन मुहूर्तों के दौरान कोई भी कार्य करने से सफलता की संभावना बढ़ जाती है और सकारात्मक परिणाम मिलते हैं।

वैराज मुहूर्त

वैराज मुहूर्त हिंदू ज्योतिष में एक ऐसा शब्द है जोकि कुछ गतिविधियों को करने के लिए एक अशुभ समय अवधि माना जाता है। शब्द “वैराज” संस्कृत शब्द “वैराजा” से लिया गया है, जिसका अर्थ है अशुद्ध या अशुद्ध। दूसरी ओर मुहूर्त शुभ समय अवधि या उस क्षण को संदर्भित करता है जो किसी विशिष्ट कार्य को करने के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है।

हिंदू ज्योतिष के अनुसार वैराज मुहूर्त बहुत महत्वपूर्ण माने जाते हैं और माना जाता है कि किसी भी उद्यम की सफलता या विफलता पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है ऐसा माना जाता है कि इन मुहूर्तों के दौरान कोई भी गतिविधि करने से विफलता की संभावना बढ़ जाती है और व्यक्ति के लिए दुर्भाग्य और दुर्भाग्य लाता है।

विश्ववसु मुहूर्त

“विश्ववसु” एक संस्कृत शब्दहै जिसे “विश्व” से लिया गया है जिसका अर्थ है ब्रह्मांड और “वसु” जिसका अर्थ अच्छा है और इस प्रकार इसका अर्थ “ब्रह्मांड के लिए अच्छा” है बब्कि दूसरी ओर मुहूर्त शुभ समय अवधि या उस क्षण को संदर्भित करता है जो किसी विशिष्ट कार्य को करने के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है।

हिंदू ज्योतिष के अनुसार विश्ववसु मुहूर्त को न तो शुभ और न ही अशुभ माना जाता है और ऐसा माना जाता है कि किसी भी उद्यम की सफलता या विफलता पर इसका तटस्थ प्रभाव पड़ता है। ऐसा माना जाता है कि इन मुहूर्तों के दौरान किसी भी गतिविधि को करने से कार्य के परिणाम पर महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं पड़ सकता है।

अभिजित मुहूर्त

“अभिजीत” शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ है “विजयी” हिंदू ज्योतिष के अनुसार अभिजीत मुहूर्त किसी भी कार्य को करने के लिए सबसे शुभ समय अवधियों में से एक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि अभिजीत मुहूर्त के दौरान ऊर्जाएं इस तरह से संरेखित होती हैं कि इस दौरान किया गया कोई भी कार्य सफल होता है और फलदायी होता है।

अभिजीत मुहूर्त की गणना सूर्य की स्थिति के आधार पर की जाती है और इसे बहुत शक्तिशाली समय अवधि माना जाता है। अभिजीत मुहूर्त के दौरान की जाने वाली कुछ गतिविधियों में एक नया व्यवसाय शुरू करना, एक नए भवन की आधारशिला रखना, विवाह समारोह और अन्य महत्वपूर्ण समारोह शामिल हैं।

कुल मिलाकर अभिजीत मुहूर्त हिंदू ज्योतिष में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता हैं और माना जाता है कि यह महान शक्ति और सफलता का समय है इस शुभ मुहूर्तों का पालन करके यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि कोई भी गतिविधि बड़ी सफलता और समृद्धि के साथ की जाती है।

रोहिणी मुहूर्त

रोहिणी मुहूर्त हिंदू ज्योतिष में सबसे शुभ नक्षत्रों या तारा नक्षत्रों में से एक माना जाता है तथा हिंदू ज्योतिष के अनुसार, रोहिणी मुहूर्त किसी भी कार्य को करने के लिए सबसे शुभ समय अवधियों में से एक माना जाता है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार रोहिणी 27 नक्षत्रों में से एक है जोकि ब्रह्मांड के निर्माता भगवान ब्रह्मा का जन्म रोहिणी नक्षत्र के तहत हुआ था जो इसे अत्यधिक शुभ बनाता है ऐसा कहा जाता है कि रोहिणी मुहूर्त के दौरान की जाने वाली गतिविधियों पर भगवान ब्रह्मा का आशीर्वाद होता है जिससे इसमें शामिल व्यक्ति या लोगों को सफलता और समृद्धि मिलती है।

रोहिणी मुहूर्त की गणना आकाश में चंद्रमा और तारों की स्थिति के आधार पर की जाती है इन मुहूर्तों का समय दिन-प्रतिदिन बदलता रहता है और ज्योतिषियों द्वारा की गई ज्योतिषीय गणना के आधार पर निर्धारित किया जाता है।

बल मुहूर्त

बल मुहूर्त वैदिक ज्योतिष और हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण मुहूर्त है और “बल” शब्द का अर्थ शक्ति है और यह मुहूर्त शक्ति, शक्ति और साहस से संबंधित गतिविधियों के लिए शुभ माना जाता है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार बल मुहूर्त दोपहर के समय 12:00 बजे से 1:30 बजे के बीच होता है और यह समया सामर्थ्य और शक्ति से संबंधित किसी भी गतिविधि को शुरू करने के लिए आदर्श माना जाता है इस मुहूर्त को खेल आयोजनों, शारीरिक व्यायाम और सैन्य अभियानों के लिए भी शुभ माना जाता है।

विजय मुहूर्त

“विजय” शब्द का अर्थ जीत है और यह मुहूर्त सफलता, उपलब्धि और विजय से संबंधित गतिविधियों के लिए उत्तम माना जाता है और विजय मुहूर्त को वैदिक ज्योतिष और हिंदू धर्म में सबसे शुभ मुहूर्तों में से एक माना जाता है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार विजय मुहूर्त दोपहर बाद या शाम के शुरुआती घंटों में दोपहर 3:00 बजे से शाम 4:30 बजे के बीच होता है तथा इस समय अवधि को जीत से संबंधित किसी भी गतिविधि को शुरू करने के लिए आदर्श माना जाता है और हिंदू धर्म में विजय मुहूर्त को विभिन्न अनुष्ठानों और अनुष्ठानों को करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है।

माना जाता है कि विजय मुहूर्त के दौरान कोई भी कार्य शुरू करने से सफलता, उपलब्धि और जीत मिलती है इसलिए मुहूर्त के दौरान कोई भी अनुष्ठान या समारोह करने से भक्त को आशीर्वाद और समृद्धि मिल सकती है।

वरुण मुहूर्त

हिंदू धर्म में वरुण मुहूर्त शुभ मुहूर्त माना जाता है तथा “वरुण” शब्द का अर्थ है जल और यह मुहूर्त जल से संबंधित गतिविधियों के लिए उत्तम माना जाता है जैसे कि जल से संबंधित कोई नया व्यवसाय शुरू करना या जल से संबंधित कोई अनुष्ठान करना।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार वरुण मुहूर्त प्रात:काल प्रात:काल 6:00 बजे से 7:30 बजे के बीच होता है और यह समयावधि जल से संबंधित किसी भी गतिविधि को शुरू करने के लिए आदर्श मानी जाती है जैसे कि पानी से संबंधित कोई नया व्यवसाय शुरू करना, जल से संबंधित कोई अनुष्ठान करना या पानी से संबंधित कोई नया उपकरण स्थापित करना। यह मुहूर्त व्यापार और वाणिज्य से संबंधित कार्यों के लिए भी शुभ माना जाता है क्योंकि जल प्रवाह और गति का प्रतीक है।

र्नेत मुहूर्त

र्नेत मुहूर्त वैदिक ज्योतिष में एक मुहूर्त है और “र्नेत मुहूर्त” का अर्थ होता है कि किसी व्यक्ति के लिए राजनीति में कदम रखने या अपनी राजनीतिक करियर की शुरुआत करने के लिए शुभ समय माना जाता है और इस मुहूर्त का चयन व्यक्ति के जन्मकुंडली और निर्णय करने के लिए उसके गुणों, दशाओं और वर्तमान समय के परिणामों का विश्लेषण किया जाता है।

जैसा कि हम जानते हैं कि राजनीति एक विशाल दुनिया है और इसमें शामिल होने के लिए शुभ मुहूर्त का चयन बहुत महत्वपूर्ण होता है इसलिए र्नेत मुहूर्त के इस्तेमाल करने से राजनीतिक करियर में सफलता की संभावना बढ़ती है।

सौम्य मुहूर्त

“सौम्य मुहूर्त” हिंदू ज्योतिष का एक शब्द है जो एक नए उद्यम, उपक्रम या गतिविधि को शुरू करने के लिए शुभ या उत्तम समय माना जाता है और इस समय अवधि है जिसे सफलता, वृद्धि और समृद्धि के लिए अनुकूल माना जाता है।

“सौम्य” शब्द का अर्थ है सुखद, कोमल या सुखदायक और “मुहूर्त” का अर्थ है एक क्षण या शुभ समय तथा सौम्य मुहूर्त को एक नया व्यवसाय शुरू करने, एक नई परियोजना शुरू करने, शादी करने या धार्मिक समारोह करने के लिए आदर्श माना जाता है ऐसा माना जाता है कि सौम्य मुहूर्त के दौरान कोई गतिविधि शुरू करने से सफलता, खुशी और विकास की संभावना बढ़ जाती है।

भाग मुहूर्त

“भाग मुहूर्त” हिंदू ज्योतिष में एक मुहूर्त है जो धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों जैसे मंत्रों का पाठ करना, पूजा करना और ध्यान करने के लिए एक शुभ या उत्तम समय माना जाता है साथ ही “भाग” शब्द का अर्थ दिव्य या ईश्वरीय है और “मुहूर्त” एक क्षण या शुभ समय अवधि को संदर्भित करता है।

ऐसा माना जाता है कि भग मुहूर्त के दौरान धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों का आयोजन गतिविधि के सकारात्मक प्रभावों को बढ़ाता है और व्यक्ति को आध्यात्मिक लाभ पहुंचाता है। भाग मुहूर्त एक ऐसा समय माना जाता है जब ब्रह्मांडीय ऊर्जा और ग्रह संरेखण परमात्मा से जुड़ने और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए सबसे अनुकूल होते हैं। भग मुहूर्त के दौरान की जाने वाली कुछ गतिविधियों में पूजा और यज्ञ करना, मंत्रों का पाठ करना, देवताओं को प्रार्थना करना, ध्यान करना और आध्यात्मिक ग्रंथों को पढ़ना शामिल है।

आज का शुभ मुहूर्त क्या है?

– आज एक दिन बहुत ही शुभ है और आपकी ज़िंदगी का नया दिन है इसलिए किसी भी महत्वपूर्ण काम को करने से पहले आज का शुभ मुहूर्त देखें क्योंकि शुभ मुहूर्तों के दौरान कोई भी महत्वपूर्ण काम करने से सफलता की संभावना बढ़ जाती है।

कल का शुभ मुहूर्त क्या है?

– अगर आप कल कोई भी महत्वपूर्ण काम करने वाले है जैसे पूजा-अर्चना, आध्यात्मिक या धार्मिक अनुष्ठान, विवाह, नया व्यवसाय शुरू करना, नई संपत्ति या वाहन खरीदना और यहां तक कि एक बच्चे का नामकरण इत्यादि तो इसे पहले आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त देखें!

शुभ मुहूर्त कितने बजे है?

– जैसा की हमने आपको बताया शुभ मुहूर्त अलग अलग परिस्तिथि, स्थान और समय के अनुसार तय किये जाते है जोकि वैदिक ज्योतिष व हिंदू ज्योतिष के द्वारा हर दिन के आधार पर आधारित होते है आमतौर पर शुभ मुहूर्त के लिए सबसे अच्छा समय दिन के पहले भाग में और सूर्योदय से दोपहर तक होता है और हमने आपको आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त कितने बजे है उसकी जानकारी प्रदान की है।

सबसे बढ़िया मुहूर्त कौन सा होता है?

– हिंदू ज्योतिष में 15 शुभ मुहूर्त है जोकि विभिन्न गतिविधियों को करने के लिए शुभ समय को संदर्भित करती है ऐसा माना जाता है कि इन मुहूर्तों के दौरान कोई भी गतिविधि करने से सफलता की संभावना बढ़ जाती है हालांकि सबसे बढ़िया मुहूर्त का चयन विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है तथा एक अनुभवी ज्योतिषी आपकी विशिष्ट आवश्यकताओं और व्यक्तिगत जन्म कुंडली के आधार पर आज का शुभ मुहूर्त और कल का सबसे बढ़िया मुहूर्त चुनने में आपका मार्गदर्शन कर सकता है।

तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल किसी भी नज़र से महत्वपूर्ण लगता हैं तो कृपया इसे कम से कम केवल एक व्यक्ति के साथ जरूर शेयर करें ताकि उसके जीवन मे भी बुरा प्रभाव कम हो औऱ अपनी फैमिली और रिस्तेदारों में जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी आज का शुभ मुहूर्त और कल का शुभ मुहूर्त का समय कैसे रहेगा इसकी भी जानकारी होनी चाहिए!!

हमारी नये पोस्ट को सबसे पहले देखने के लिए Chrome ब्राउज़र के ऊपर दाईं ओर तीन डॉट वाले मेनू पर टैप करें और फिर मेनू में नीचे स्क्रॉल करें जहाँ आपको मेनू के नीचे ‘Follow’ पर टैप करें व हमारी वेबसाइट को फॉलो करें।

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी केवल सूचना के लिए दी जा रही है तथा NewsMeto इसकी पुष्टि नहीं करता है और किसी भी उपाय को करने से पहले संबंधित विषय के एक्सपर्ट से सलाह अवश्य लें।

NewsMeto
Logo