Kal Ka Rahu Kal- आज और कल का राहु काल कितने बजे देखें

हिन्दू धर्म में वैदिक शास्त्रों के अनुसार राहुकाल समय अवधि में किसी भी महत्वपूर्ण कार्यों को करने के लिए अशुभ माना जाता है तथा राहुकाल एक ऐसा समय माना जाता है जब राहु ग्रह हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालता है जिससे आपके किये गए प्रयासों में बाधाएं और रुकावटें आती हैं इसलिए आज का राहु काल और कल का राहु काल देखें की जानकारी होनी चाहिए।

इसलिए किसी भी विशेष कार्य को करने से पहले राहु काल का समय को देखने की प्रथा वैदिक शास्त्रों में देखने को मिलती है जिसके अनुसार राहु काल समय के दौरान किये गए कार्यो में अकारण दिक्कत आती हैं या फिर कार्य अधूरे ही रह जाते हैं।

साथ ही साथ ऐसा माना जाता है की राहुकाल समय के दौरान किए गए कार्य में विपरीत व अनिष्ट फल प्राप्त होते है इसलिए आपको न केवल आज का राहु काल का समय पता होना चाहिए बल्कि कल का राहु काल कैसे रहेगा इसकी भी जानकारी होनी चाहिए और हम आपको यहाँ हर रोज राहुकाल के समय की जानकरी प्रदान करते हैं।

aaj ka Rahu Kaal kal ka Hindi आज का राहु काल और कल का राहु काल

आज का राहु काल क्या है?


राहुकाल को अशुभ समय माना जाता है इसलिए भारतीय ज्योतिषयो द्वारा नए कार्यक्रम या महत्वपूर्ण कार्यों को राहुकाल समय अवधि के दौरान नहीं करने की सहला दी जाती है ऐसा माना जाता है कि इस दौरान राहु ग्रह का नकारात्मक प्रभाव पड़ता है जिसे कार्यो में सफलता पाने के लिए अत्यधिक प्रयास करने पड़ते हैं या फिर असफलता मिलती है।

चूकि राहु काल अशुभ समय होता है जो हमारे विचारों, कार्यों और निर्णयों को प्रभावित करने के साथ-साथ हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालता है इसलिए कोई महत्वपूर्ण या मांगलिक कार्य हो, आध्यात्मिक या धार्मिक अनुष्ठान, विवाह, नया व्यवसाय शुरू करना, नई संपत्ति या वाहन खरीदना इत्यादि नहीं करना चाहिए।

राहुकाल की गणना सूर्योदय और सूर्यास्त के समय के आधार पर की जाती है और राहुकाल का समय स्थान और समय के आधार पर भिन्न होता है इसे आम तौर पर लगभग 90 मिनट के आठ खंडों में विभाजित किया जाता है प्रत्येक खंड की सटीक अवधि समय और स्थान के आधार पर अलग-अलग होती है।

राहु काल हर दिन अलग-अलग समय पर शरू होता है तथा यह सुबह से लेकर शाम के समय में भी आता है जोकि हर दिन 90 मिनट का समय होता है जिसे राहुकाल या अशुभ समय कहा जाता है तो चलिए जानते है आज का राहु काल का समय और कल का राहु काल क्या है।

आज सोने का भाव आज का पंचांग
आज का चौघड़ियाआज का शुभ मुहूर्त

आज का राहु काल


अधितकर लोगो किसी भी काम को करने से पहले शुभ और अशुभ समय को देखते है हम आपके लिए हर रोज Aaj Ka Rahu Kaal अपडेट करते रहते है जिसमे आपको आज के पंचांग में शुभ मुहूर्त, चौघड़िया, राहुकाल, तिथि-नक्षत्र, योग, पक्ष, वार इत्यादि सभी की जानकारी प्रदान की जाती है तो अगर आप आज का पंचांग देखने आये है तो निचे क्लिक करें और Aaj Ka Rahu Kaal देखें!

कल का राहु काल


अक़्सर हम किसी काम को करने से पहले मुहूर्त देखते है इसलिए अगर आप कल कोई महत्वपूर्ण काम करने वाले है तो हम आपको आने वाले दिन यानि कल का राहु काल क्या होगा उसकी भी जानकारी प्रदान कर रहे ताकि आज और कल दोनों का राहु काल देख सकें इसलिए हम आपके लिए यहाँ हर रोज Kal Ka Rahu Kaal अपडेट करते रहते है तो निचे क्लिक करें और देखें!

Join WhatsApp Channel 😊

सोमवार से रविवार तक राहु काल का समय 


भारत में हर स्थान पर सूर्योदय और सूर्यास्त होने कारण साथ ही भौगोलिक स्थिति के अनुसार भी राहु काल का समय अलग-अलग स्थानों के लिये भिन्न होता है लेकिन राहुकाल सप्ताह के सातों दिन यानि प्रत्येक वार को अलग समय में शुरू होता है जोकि लगभग 90 मिनट तक रहता है नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए राहुकाल के दौरान कोई भी महत्वपूर्ण कार्य या गतिविधि शुरू करने से बचने की सलाह दी जाती है आमतौर पर सोमवार से रविवार तक राहु काल का समय इस तरह है:

वार राहु काल का समय 
रविवारसायं 4:30 से 6:00 बजे तक
सोमवारप्रात:काल 7:30 से 9:00 बजे तक
मंगलवारअपराह्न 3:00 से 4:30 बजे तक
बुधवारदोपहर 12:00 से 1:30 बजे तक
गुरुवारदोपहर 1:30 से 3:00 बजे तक
शुक्रवारप्रात:10:30 से दोपहर 12:00 तक
शनिवार प्रात: 9:00 से 10:30 बजे तक

सोमवार का राहु काल समय

सोमवार को राहुकाल आमतौर पर सूर्योदय से शुरू होता है और लगभग 1.5 घंटे तक रहता है। सोमवार को राहु काल सुबह 7:30 बजे से शुरू होकर 9:00 बजे तक रहता है।

मंगलवार का राहु काल समय

राहुकाल दोपहर 3:00 बजे शुरू होता है और शाम 4:30 बजे तक रहता है।

बुधवार का राहु काल समय

राहुकाल दोपहर 12:00 बजे से शुरू होता है और दोपहर 1:30 बजे तक रहता है।

गुरुवार का राहु काल समय

राहुकाल दोपहर 1:30 बजे से शुरू होकर 3:00 बजे तक रहता है।

शुक्रवार का राहु काल समय

राहुकाल सुबह 10:30 बजे से शुरू होकर दोपहर 12:00 बजे तक रहता है।

शनिवार का राहु काल समय

राहुकाल सुबह 9:00 बजे से शुरू होकर 10:30 बजे तक रहता है।

रविवार का राहु काल समय

राहकाल शाम 4:30 बजे से शुरू होकर शाम 6:00 बजे तक रहता है।

राहु काल में क्या नहीं करना चाहिए?


वैदिक ज्योतिष के अनुसार राहुकाल हर दिन लगभग 90 मिनट के लिए होता है और स्थान के सूर्योदय और सूर्यास्त के समय के आधार पर भिन्न होता है तथा वैदिक शास्त्रों के अनुसार राहुकाल के दौरान कुछ गतिविधियों से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि वह नकारात्मक परिणाम ला सकती हैं इसलिए यहां हमने राहु काल के दौरान क्या चीजे नहीं चाहिए उसके बारे में जानकारी दी है।

यात्रा: राहुकाल के दौरान यात्रा करना अशुभ माना जाता है क्योंकि इससे दुर्घटना, देरी या अन्य समस्याएं हो सकती हैं तथा राहु काल के दौरान यात्रा करने से बचना सबसे अच्छा है और इसके बजाय शुभ मुहूर्त के दौरान अपनी यात्रा का समय निर्धारित करें।

निवेश: निवेश करने के लिए राहुकाल को अच्छा समय नहीं माना जाता है इसलिए कोई भी पैसो से जुड़ा निर्णय लेने से पहले राहु काल के समाप्त होने तक इंतजार करना सबसे अच्छा है।

धार्मिक समारोह: ऐसा माना जाता है कि राहुकाल के दौरान विवाह, हवन या यज्ञ जैसे महत्वपूर्ण धार्मिक समारोह करने से नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं इसलिए हमेशा पंचांग के शुभ मुहूर्त के दौरान इन समारोहों को शेड्यूल करना चाहिए।

सोना: राहुकाल के दौरान सोना भी अशुभ माना जाता है क्योंकि इससे बुरे सपने या नींद में खलल पड़ सकता है तथा इस समय सोने से बचना या राहु काल शुरू होने से पहले एक छोटी झपकी लेना सबसे अच्छा है।

भोजन: राहुकाल के दौरान केवल हल्का और सादा भोजन करने की सलाह दी जाती है क्योंकि राहु काल के दौरान भोजन या पेय पदार्थ का सेवन करना अशुभ माना जाता है।

चिकित्सा: सभव हो तो कोई भी चिकित्सा उपचार शुरू करने से पहले राहुकाल के समाप्त होने तक प्रतीक्षा करे क्योंकि राहु काल के दौरान दवा या चिकित्सा शुरू करना अशुभ माना जाता है।

नाखून-बाल काटना: इस समय के दौरान नाखून या बाल काटने से बचना चाहिए क्योंकि राहुकाल के दौरान नाखून या बाल काटना अशुभ माना जाता है क्योंकि इससे दुर्भाग्य या नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं।

वाद-विवाद या संघर्ष: राहु भ्रम और गलतफहमी से जुड़ा है इसलिए राहुकाल के दौरान वाद-विवाद या संघर्ष में उलझने से बचना चाहिए क्योंकि वे बढ़ सकते हैं और अधिक समस्याएं पैदा कर सकते हैं।

नया रिश्ते: नए रिश्ते शुरू करना जैसे राहुकाल के दौरान शादी नहीं करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे रिश्ता मुश्किल या समस्याग्रस्त हो सकता है इसलिए नया रिश्ता शुरू करने या शादी करने से पहले राहुकाल के समाप्त होने तक इंतजार करना चाहिए।

शुभ अनुष्ठान: राहुकाल के दौरान कोई भी शुभ अनुष्ठान या पूजा करने की सलाह नहीं की जाती है क्योंकि इससे नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं।

राहुकाल का उपाय


कुल मिलाकर राहुकाल के दौरान जोखिम भरे या महत्वपूर्ण कार्यों करने से बचना चाहिए इसके बजाय राहुकाल के समय आराम करने, ध्यान करने या हल्के कार्य करने पर ध्यान दें। राहु काल को अशुभ माना जाता है लेकिन इसे डरने की आवश्यकता नहीं है।

बल्कि आपको सतर्क रहने की आवश्यकता है हालांकि ज्योतिष के अनुसार राहुकाल के समय यात्रा करने से पहले पान, दही या कुछ मीठा खाकर चले साथ ही हनुमान चालीसा पढ़ने के बाद पंचामृत का सेवन करें इसे राहुकाल के नकारात्मक प्रभाव से बचा जा सकता है।

आज का राहु काल का समय क्या है?

– राहुकाल का समय आपके स्थान और वर्तमान तिथि और समय के आधार पर भिन्न होता है जोकि हर दिन लगभग 90 मिनट के लिए होता है साथ ही राहुकाल सप्ताह के सातों दिन यानि प्रत्येक वार को अलग समय में शुरू होता है आज का राहुकाल का समय समय देखें ऊपर प्रदान किया गया है।

कल का राहु काल का समय क्या है?

– आपके स्थान और वर्तमान तिथि के साथ आपका समय प्रदान करना होगा जिसके लिए आप राहुकाल का समय जानना चाहते हैं उस जानकारी के आधार पर आप कल अपने स्थान पर राहुकाल के लिए सटीक समय प्राप्त कर सकते हैं।

राहु के लिए कौन सा दिन अच्छा है?

– वैदिक ज्योतिष में आमतौर पर शनिवार का दिन राहु की पूजा के लिए सबसे अच्छा दिन माना जाता है और शनिवार का दिन शनि देव की पूजा और शनि देव से संबंधित उपाय करने के लिए शुभ माना जाता है।

राहु काल का समय दिन-प्रतिदिन बदलता रहता है और स्थान और दिन की अवधि पर निर्भर करता है आमतौर पर राहु काल लगभग डेढ़ घंटे लंबा होता है और रविवार को छोड़कर सप्ताह के हर दिन होता है ऐसा माना जाता है कि राहु काल के दौरान राहु का नकारात्मक प्रभाव हावी होता है और इस दौरान किसी भी नई शुरुआत या महत्वपूर्ण गतिविधियों से बचना चाहिए।

इसके अतिरिक्त किसी व्यक्ति के जीवन पर राहु का प्रभाव व्यक्ति की जन्म कुंडली और ग्रहों की स्थिति के आधार पर अलग-अलग हो सकता है इसलिए आपके जन्म चार्ट में राहु के विशिष्ट प्रभावों को समझने के लिए एक योग्य ज्योतिषी से परामर्श करें और इसके नकारात्मक प्रभाव को कम करें।

तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल किसी भी नज़र से महत्वपूर्ण लगता हैं तो कृपया इसे कम से कम केवल एक व्यक्ति के साथ जरूर शेयर करें ताकि उसके जीवन मे भी बुरा प्रभाव कम हो औऱ अपनी फैमिली और रिस्तेदारों में जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी आज का राहु काल का समय और कल का राहु काल कैसे रहेगा इसकी भी जानकारी होनी चाहिए!!

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी केवल सूचना के लिए दी जा रही है तथा NewsMeto इसकी पुष्टि नहीं करता है और किसी भी उपाय को करने से पहले संबंधित विषय के एक्सपर्ट से सलाह अवश्य लें।