10 Line Diwali- दीवाली पर निबंध

10 Line Diwali – दीवाली हिंदुओ का सबसे बड़ा त्यौहार है जोकि पांच दिनों तक चलने वाला सबसे बड़ा हिन्दू उत्सव भी माना जाता हैं जिसे दीपावली भी कहते हैं क्योंकि इस दिन दीपों को जलाया जाता है तथा अधर्म व बुराई रूपी अंधकार को मिटाया जाता है।

अक़्सर हमें स्कूलों व कॉलेजों में निबंध व भाषण लिखने के लिए दिए जाते है इसलिए आज हम आपको दीवाली पर 10 लाइन में छोटे निबंध प्रदान करें रहे हैं उम्मीद है आपको हमारे द्वारा लिखे गए निबंध पसंद आयगे।

10 Line Diwali short essay hindi

औऱ आप भी हमें दीवाली- Diwali पर 10 लाइन निबंध लिखकर भेज सकते हैं जोकि यूनिक व ओरिजनल होना चाहिए जिसकों हमारी वेबसाइट के माध्यम से हजारों लोग पढ़ेगें इसके लिए हमारे इस फेसबुक पेज पर मैसज करें।

10 Line Diwali Short Essay Hindi- पहला

1. दीपावली हिंदुओं का पवित्र त्यौहार है औऱ यह हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है।

2. इस दिन भगवान राम चौदह वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या वापिस आये थे और अयोध्या वासियों ने उनके स्वागत में घी के दिये जला कर पूरी अयोध्या को रौशन कर दिया था तभी से हर वर्ष इस दिन लोग अपने घरों में दिये जलाते है।

3. यह पर्व भारत में नही बल्कि विश्व के कई देशों में बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है इसलिए यह पर्व अन्य धर्मों के लोगो में भी बहुत लोकप्रिय है।

4. इस दिन रात को देवी लक्ष्मी और श्री गणेश का पूजन किया जाता है तथा लक्ष्मी जी को धन वैभव की देवी कहा जाता है और गणेश जी शुभता के प्रतीक है व इनकी कृपा से घर में सब कुछ शुभ और मंगलमयी होता है।

5. माता लक्ष्मी के बारे में ऐसी मान्यता है की वह स्वच्छ स्थान पर ही वास करती है इसलिए लक्ष्मी पूजन के लिए लोग कई दिन पहले से घर की साफ सफाई में लग जाते है।

6. लोग घर की रंगाई-पुताई करते है और झालरों-कन्दीलों  आदि से पूरे घर को सजाते है।

7. इस दिन सुबह पितरों की पूजा करके उन्हें भोग लगाना चाहिए क्योंकि अमावस्या पर सर्वप्रथम पितरों की पूजा का ही विधान है।

8. रात को स्नान करके पूजा की जाती है और लक्ष्मी और गणेश को खील-बताशों, फल, मिठाईयों आदि का भोग लगाया जाता है।

9. इस दिन बच्चें आतिशबाज़ी जलाकर अपना मनोरंजन करते है लेक़िन बढ़ते प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए हमें बिना आतिशबाज़ी किये ही इस त्यौहार का आनन्द लेना चाहिए।

10. अच्छा होगा कि आतिशबाज़ी में जो पैसे बर्बाद होते है उनसे हम किसी गरीब के अन्धेरे घर में भी दिये जलाए।


10 Line Diwali Short Essay Hindi- दूसरा

1. दीपावली खुशियों का त्यौहार है इस दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे।

2. उनके आने की खुशी में लोगो ने अपने घरों को साफ स्वच्छ करके रंग-रोगन किया और जिस दिन श्री राम के वनवास का अन्तिम दिन था उस शाम अयोध्या वासियों ने पूरे नगर में इतने दिये जला दिये कि अमावस्या की रात्रि भी शरद पूर्णिमा की रात्रि की तरह उज्ज्वल हो गई।

3. इसका कारण यह था कि भगवान राम शाम के समय आने वाले थे और उस दिन अमावस्या थी और श्री राम को अन्धेरे में घर वापिस आने में कठिनाई न हो इसलिए दिये जला कर पूरे नगर को रौशन कर दिया गया।

4. तभी से हर कार्तिक अमावस्या को लोग पूरे घर की साफ-सफाई भी अवश्य करते है और क्योंकि सीता माता लक्ष्मी का ही अवतार है और राम के साथ उनकी भी घर वापसी हुई थी इसलिए बाद में लक्ष्मी पूजन भी दीपावली के दिन किया जाने लगा।

5. गणेश जी प्रथम देवता है उनका सर्वप्रथम पूजन का विधान है साथ ही वह लक्ष्मी माता के दत्तक पुत्र भी है इसलिए माता लक्ष्मी के साथ उनका भी पूजन किया जाता है।

6. इस दिन लोग मुख्य द्वार को आम के पत्तों के तोरण से सजाते है।

7. इस दिन व्यापारी लोग नए बही-खाते शुरु करते है और बही -खातो की भी पूजा करते है।

8. कुछ लोग दीवाली पर पूरा दिन उपवास भी रखते है और शाम को पूजन करने के बाद ही भोजन ग्रहण करते है।

9. यह त्यौहार पाँच दिन तक चलता है और इस दौरान लोग बहुत सी नई वस्तुए खरीदते है इसलिए बाजारों में भी चहल-पहल और रौनक बढ़ जाती है।

10. इस दिन लोग नये कपड़े पहनते है तथा परिजनों और मित्रों के घर जाकर उन्हें मिठाई और उपहार आदि देते है और दीपावली की शुभकामनाएं देते है।


10 Line Diwali Short Essay Hindi- तीसरा

1. दीपावली भारत में सभी धर्मों के लोग मिल जुल कर मनाते है।

2. यह केवल एक त्यौहार नही बल्कि कई त्यौहारों का समूह है।

3. यह हिन्दूओं के साथ-साथ बौद्ध, जैन और सिख समुदाय के लोगो का भी प्रमुख त्यौहार है।

4. बौद्ध धर्म की मान्यता है कि इसी दिन महात्मा बुद्ध 18 वर्षों के पश्चात कपिलवस्तु लौटे थे जोकि उनकी मातृ भूमि थी।

5. इसलिए लोगो ने दिये जला कर उनका स्वागत किया था और उन्होने उपदेश देकर सभी को कृतार्थ किया था।

6. सिख धर्म के इतिहास के अनुसार सिखों के छठे गुरु हर गोविंद साहेब ग्वालियर में मुगलों की कैद में थे और 1619 में उन्हें दिवाली के दिन ही स्वतंत्र किया गया।

7. तभी से सिख धर्म में उनकी स्वतन्त्रता की खुशी में इस दिन को बन्दी छोड़ दिवस के रूप में भी मनाया जाने लगा।

8. जैन धर्म में भी दीपावली मुख्य त्यौहार के रूप में मनाई जाती है।

9. इसी दिन भगवान महावीर ने निर्वाण प्राप्ति की थी इसलिए जैन धर्म के मन्दिरों में इस दिन निर्वाण लड्डू चढ़ाए जाते है।

10. इस प्रकार इस त्यौहार के अनेको रूप-रंग भारत की संस्कृति को और अधिक समृद्ध बनाते है।


10 Line Diwali Short Essay Hindi- चौथा

1. दीपावली पंच दिविसिय महापर्व है जिसके साथ बहुत सी पौराणिक कथायें जुडी हुई है।

2. सबसे प्रसिद्ध कथा श्री राम की है वह रावण का वध करने के पश्चात उन्होने अपना 14 वर्ष का वनवास पूरा किया और वनवास के अंतिम दिन सन्ध्या के समय वह अयोध्या लौटे और उनके लौटने की खुशी में अयोध्या वासियों ने पहली दीवाली मनाई।

3.इसलिए यह त्यौहार धर्म की अधर्म पर विजय का भी उत्सव है।

4. इस दिन के साथ समुद्र मंथन की कथा भी जुड़ी हुई है इसी दिन समुद्र मंथन से माता लक्ष्मी अवतरित हुई थी और उन्होने विष्णु जी का वरण किया था इसलिए इस दिन लक्ष्मी पूजन भी किया जाता है।

5. एक कथा के अनुसार एक बार भगवान विष्णू ने लक्ष्मी जी से कहा कि नारी माँ बने बगैर अधूरी होती है।

6. इस बात से माता लक्ष्मी भावुक हो गायी और अपने अस्तित्व को सम्पूर्ण करने के लिए उन्होने पार्वती पुत्र गणेश को अपना दत्तक पुत्र बना लिया।

7. लक्ष्मी जी ने कहा कि जो भी मेरे साथ गणेश की पूजा नही करेगा उसे मेरी पूजा का फल नही मिलेगा तभी से लक्ष्मी जी के साथ गणेश जी की पूजा अनिवार्य रूप से की जाती है।

8. एक कथा के अनुसार इसी दिन भगवान विष्णु ने वामन अवतार लेकर राजा बलि की कैद से सभी देवताओं को छुड़वाया था।

9. मान्यता है कि इस दिन माता लक्ष्मी रात्रि को विचरण करती है और जहां साफ-सफाई और प्रकाश देखती है वही वास करती है।

10. इसलिए दीपावली पर पूरी रात घर में प्रकाश रखा जाता है तथा पुराने समय में लोग दीवाली की रात घर के द्वार बन्द नही करते थे परन्तु अब वह समय नही रहा इसलिए सुरक्षा कारणो से 12 बजे के बाद लोग घर के द्वार बन्द कर लेते है।


10 Line Diwali Short Essay Hindi- पांचवा

1. दीपावली मुख्यत: दीपों का त्यौहार है इसी दिन माता लक्ष्मी सागर मंथन में सागर से निकली थी इसलिए दीपावली की रात्रि को लक्ष्मी पूजन का विशेष मह्त्व है।

2. यह त्यौहार धन तेरस से शुरु होता है तथा धनतेरस के दिन धनवंतरि देव की पूजा की जाती है जोकि धन तेरस के दिन ही समुद्र मंथन में समुद्र से निकले थे।

3. अगले दिन नरक चतुर्दशी होती है इस दिन श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था औऱ यह भी कहा जाता है कि इस दिन दीवाली पूजन के उपलक्ष्य में घर का सारा नर्क अर्थात गंदगी को निकाल देना चाहिए।

4. दीवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा की जाती है इसी दिन भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठाया था।

5. पांचवे दिन भाई दूज के रूप में मनाया जाता है यह मुख्यत: यम पूजा का दिन है इस दिन यमराज के नाम का दिया जलाया जाता है।

6. दिवाली के मुख्य दिवस को सन्ध्या के समय एक लकड़ी की चौकी पर लक्ष्मी जी के दाहिनी ओर विष्णु जी की और बाई ओर गणेश जी की स्थापना की जाती है साथ ही विद्या की देवी सरस्वती माता की भी पूजा की जाती है क्योंकि विद्या के बिना मानव जीवन अधूरा है।

7. एक लोटे में जल भरकर उस पर नारियल स्थापित किया जाता है तथा माता लक्ष्मी को पान, सुपारी, इलायची और लोंग अर्पित की जाती है।

8. पूजा 21 दियों से की जाती है औऱ एक बड़ा दिया और 20 छोटे दियों को सरसो के तेल और रुई की बाती से प्रज्ज्वलित करके दीपावली की कथा और आरती की जाती है।

9. फिर लक्ष्मी जी, गणेश जी और सभी देवी देवताओं को खील, खिलौने, बताशे, मिठाईयाँ, पंच फल, पंच  मेवा और घर में जो भी मिष्ठान बनें हो उनका भोग लगा कर पूजा संपन्न की जाती है।

10. इस दिन राजा विक्रमादित्य ने विक्रमी संवत की शुरूआत की थी इसलिए इस दिन को नववर्ष के रूप में भी मनाया जाता है।

छठ पूजा पर निबंध प्रदूषण समस्या पर निबंध
दीवाली पर निबंध सोशल मीडिया पर निंबध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ दहेज पर निबंध
जन्माष्टमी पर निबंध
ग्लोबल वार्मिंग निबंध
रक्षाबंधन पर निबंध
आज का पंचांग देखें
जन्माष्टमी पर निबंध
होली पर निबंध
ओणम पर निबंध
नवरात्रि पर निबंध

तो दोस्तों हमने आपको Diwali पर 10 लाइन निबंध अलग-अलग प्रकार के लिखे हैं अगर आपको हमारे यह निबंध पसंद आते हैं तो आप अपनी आवश्यकता के अनुसार स्कूलों में इनका इस्तेमाल कर सकते हैं और साथ ही आपको भी इसके बारे में लोगों को अवगत करना चाहिए।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया 10 Line Diwali निबंध काफी पसंद आए होंगे तो अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आता है तो उसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो हमे कमेंट करें।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मेरा नाम HP Jinjholiya है और इस Blog पर हर रोज नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी और अगर आप भी हमारे साथ काम करना चाहतें है हमें मेल करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.