10 Line Holi- होली पर निबंध

10 Line Holi Essay– होली रंगों का त्यौहार हैं जोकि हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक हैं औऱ यह सम्पूर्ण भारत में सभी धमों के लोगों द्वारा बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता हैं औऱ देश ही नही बल्कि कई अन्य देशों में भी होली का त्यौहार मनाया जाता हैं।

अक़्सर हमें स्कूलों व कॉलेजों में निबंध व भाषण लिखने के लिए दिए जाते है इसलिए आज हम आपको होली पर 10 लाइन में छोटे निबंध प्रदान करें रहे हैं उम्मीद है आपको हमारे द्वारा लिखे गए निबंध पसंद आयगे

Holi essay nibandh hindi

औऱ आप भी हमें होली- Holi पर 10 लाइन निबंध लिखकर भेज सकते हैं जोकि यूनिक व ओरिजनल होना चाहिए जिसकों हमारी वेबसाइट के माध्यम से हजारों लोग पढ़ेगें इसके लिए हमारे इस फेसबुक पेज पर मैसज करें।

10 Line Holi Short Essay Hindi- 1

1. होली हिंदुओं का पवित्र त्यौहार है औऱ यह फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

2. होली शब्द होला से बना है जिसका अर्थ है चने, मटर आदि अन्न की फलियाँ।

3. मुख्यत: यह त्यौहार नई फसल की खुशी से जुड़ा हुआ है।

4. चूँकि यह फ़सल से जुड़ा है इसीलिए होलिका दहन में गेहूँ और चने की हरी बालें भूनी जाती है और उत्सव मनाया जाता है।

5. अगले दिन धुलेन्डी मनाई जाती है इसका शाब्दिक अर्थ धूलि वंदन है।

6. इस दिन सुबह होली की राख को मस्तक पर लगाते है और फिर लोग एक दूसरे पर रंग, गुलाल, अबीर लगा कर खुशिया मनाते है।

7. होली के साथ बहुत सी कथायें भी जुडी हुई है जिनमें होलिका की कहानी मुख्य है।

8. होलिका अपने भाई हिरण्यकश्यप के कहने पर उसके पुत्र प्रह्लाद को मारने के लिये आग मे लेकर बैठ गई थी।

9.  होलिका को ब्रह्मा जी का वरदान था कि वह आग में नही जलेगी परन्तु उसके बुरे इरादों के कारण वह जल गई और प्रह्लाद बच गया तभी से होली मनाई जाने लगी।

10. इस दिन लोग आपसी वैर-भाव भुला कर एक दूसरे को गले लगाते है और मिलजुल कर यह पर्व मनाते है।

10 Line Holi Short Essay Hindi- 2

1. होली हिंदुओँ का एक धार्मिक पर्व है औऱ यह पूरे भारत में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

2. यह दो दिन का त्यौहार है पहले दिन होलिका दहन होता है जिसमें नई गेहूँ की बालें अग्नि को समर्पित कर के नई फसल की खुशियां मनाई जाती है।

3. एक तरह से यह दिन सर्दी जाने की खुशी में अन्तिम बार आग सेंकने का उत्सव भी है।

4. दूसरे दिन सभी लोग रंग, गुलाल और पानी एक दूसरे पर डाल कर, भीग कर, भिगा कर ग्रीष्म ऋतु के स्वागत में खुशियां मनाते है।

5. भारत के अलावा नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, मॉरिशस तथा कैरिबिआई देशों में भी होली का उत्सव भारत की तरह ही मनाया जाता है।

6. होली के दिन घरों में भिन्न प्रकार के पकवान बनाये जाते है जिनमे गुजिया लगभग पूरे भारत में लोकप्रिय है।

7. राष्ट्रीय पर्वों के अलावा यह एकमात्र ऐसा पर्व है जब पूरे भारत में अवकाश रहता है।

8. पहले होली खेलने के लिये फूलों से रंग बनाए जाते थे जोकि बिल्कुल हानिकारक नही होते थे।

9. आजकल रसायनयुक्त रंगों का प्रयोग होने लगा है जोकि बहुत खतरनाक होते है।

10. होली प्यार प्रेम का पर्व है इसलिए हमें ऐसे रंगों से बचना चाहिए जोकि हानिकारक होते हैं और होली को सादगी व सज्जनता से मनाना चाहिए।

10 Line Holi Short Essay Hindi- 3

1. होली प्रेम और अपनेपन का त्यौहार है इस दिन शत्रु भी वैर-भाव भुला कर मित्र बन जाते है।

2. लोग इस दिन एक दूसरे को रंग अबीर लगा कर होली की शुभकामनाएं देते है तथा बच्चें पिचकारी गुब्बारों आदि के साथ हुड़दंग मचाते है।

3. हमारे देश में होली कई प्रकार से मनाई जाती है इसकी शुरुआत बसंत पंचमी से हो जाती है।

4. ब्रज, मथुरा, वृंदावन और नंदगाँव में होली का उत्सव 40 दिन तक चलता रहता है।

5. बरसाने में पहले लड्डू मार होली खेली जाती है फिर लट्ठमार होली खेली जाती है।

6. लट्ठमार होली वृंदावन, नंदगांव, मथुरा में भी खेली जाती है तथा गोकुल में छड़ीमार होली खेली जाती है।

7. काशी में महाकाल के भक्त चिता की भस्म से होली खेलते है।

8. इस त्यौहार के साथ होलिका नामक राक्षसी की पौराणिक कथा भी जुडी हुई है जो अपने भतीजे प्रह्लाद को मारने के प्रयास में खुद ही जल कर भस्म हो गई थी।

9. इस प्रकार यह त्यौहार सत्य की असत्य पर और धर्म की अधर्म पर विजय का प्रतीक भी है।

10. तो होली खुलकर मनायें बिना किसी को तंग किये क्योंकि यह दूसरों को परेशान करने का नही बल्कि दूसरों का दिल जीतने का त्यौहार है।

10 Line Holi Short Essay Hindi- 4

1. होली ऋतु परिवर्तन और नई फसल के आगमन की खुशी का पर्व है।

2. परन्तु होली से कईं पौराणिक कथायें भी जुडी हुई है जिनमें प्रमुख कथा प्रह्लाद की है।

3. हिरण्यकश्यप असुर अपने विष्णुभक्त पुत्र प्रह्लाद को मारना चाहता था इसलिए उसकी बहन होलिका जिसे ब्रह्मा जी से अग्नि रक्षक दुशाला वरदान में प्राप्त था प्रह्लाद को अग्नि मे लेकर बैठ जाती है।

4. लेकिन अग्नि में बैठते समय वह गलती से दूसरा दुशाला ओढ़ लेती है और जल जाती है।

5. जबकि प्रह्लाद प्रभु-कृपा से सुरक्षित रहता है तभी से होलिका दहन की परम्परा शुरु हुई।

6. एक कथा के अनुसार शिव शंकर ने एक बार क्रुद्ध होकर कामदेव को भस्म कर दिया था पर कामदेव की पत्नी रति के आग्रह पर महादेव ने उन्हें पुनर्जीवित कर दिया इसी दिन होली मनाई जाने लगी।

7. पौराणिक कथाओं के अनुसार जब पूतना शिशु कृष्ण को अपना विषैला दूध पिलाने लगती है तो कृष्ण उसके प्राण भी पी जाते है यह दिन भी फाल्गुन की पूर्णिमा का ही था।

8. दक्षिण भारत से जुडी हुई एक कथा धुंढी नामक राक्षसी की है जिसे शिव के शाप के कारण बच्चों की शरारतों से खतरा था।

9.  उसे बच्चे ही पत्थर, डंडो तथा कीचड़ और मिट्टी आदि फैंक कर खदेड़ते है तभी से होली मनाई जाने लगी।

10. होली सभी धर्म-सम्प्रदाय के लोग आपसी वैमनस्य को भूल कर एक साथ मनाते है और स्नेह व अपनत्व के रंग में रंग जाते है।

10 Line Holi Short Essay Hindi- 5

1. होली एक ऐसा त्यौहार है जिसकी प्रतीक्षा बच्चे ही नही बड़े भी बहुत ही उत्सुकता से करते है।

2. होलिका दहन के दिन लकड़ियों के साथ गोबर के छेद वाले उपले भी रखे जाते है जिन्हें गूलरी, भर्भोलिये, बर्गुलिये, झाल आदि नामों से जाना जाता है।

3. होली की धूप-दीप आदि से पूजा की जाती है तथा जल चढ़ा कर तीन परिक्रमा लगाई जाती है।

4. शाम को दहन कर के गेहूं और चने की फलियाँ आग में सेंकी जाती है और प्रसाद रूप में वितरित की जाती है।

5. अगले दिन धुलेन्डी होती है इस दिन पूरा वातावरण रंगों में सराबोर हो उठता है।

6. रंग, गुलाल, अबीर, पिचकारियां पूरे माहौल को रंगीन और खुशनुमा बना देते है।

7. इस दिन उत्तर भारत में कई स्थानों पर नौटंकी, स्वांग, रास आदि के कार्यक्रम किये जाते है।

8. इस दिन बहुत जगह मुशायरों और हास्य कवि सम्मेलनों का आयोजन भी किया जाता है।

9. होली खेलने के बाद नहा-धो कर लोग नए कपड़े पहनते है और मित्रों और परिजनों के घर जाकर खुशियां बाँटते है।

10. इस वर्ष 2021 में होलिका दहन 28 मार्च को और रंगोत्सव 29 मार्च को मनाया जायेगा।

छठ पूजा पर निबंध प्रदूषण समस्या पर निबंध
दीवाली पर निबंध सोशल मीडिया पर निंबध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ दहेज पर निबंध
जन्माष्टमी पर निबंध
ग्लोबल वार्मिंग निबंध
रक्षाबंधन पर निबंध
आज का पंचांग देखें
जन्माष्टमी पर निबंध
होली पर निबंध
ओणम पर निबंध
नवरात्रि पर निबंध

तो दोस्तों हमने आपको Holi पर 10 लाइन निबंध अलग-अलग प्रकार के लिखे हैं अगर आपको हमारे यह निबंध पसंद आते हैं तो आप अपनी आवश्यकता के अनुसार स्कूलों में इनका इस्तेमाल कर सकते हैं और साथ ही आपको भी इसके बारे में लोगों को अवगत करना चाहिए।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया 10 Line Holi निबंध काफी पसंद आए होंगे तो अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आता है तो उसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो हमे कमेंट करें

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मेरा नाम HP Jinjholiya है और इस Blog पर हर रोज नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी और अगर आप भी हमारे साथ काम करना चाहतें है हमें मेल करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.