10 Line Basant Panchami- बसंत पंचमी पर निबंध

10 Line Basant Panchami– बसंत पंचमी हर साल फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को भारतवर्ष में उत्साह के साथ मनाया जाता हैं जोकि ज्ञान और बुद्धि की देवी माता सरस्वती का पर्व भी माना जाता है इसलिए इस दिन माता सरस्वती की पूजा अर्चना भी की जाती हैं।

अक़्सर हमें स्कूलों व कॉलेजों में निबंध व भाषण लिखने के लिए दिए जाते है इसलिए आज हम आपको बसंत पंचमी पर 10 लाइन में छोटे निबंध प्रदान करें रहे हैं उम्मीद है आपको हमारे द्वारा लिखे गए निबंध पसंद आयगे।

10 Line Basant Panchami short essay hindi

औऱ आप भी हमें बसंत पंचमी- Basant Panchami पर 10 लाइन निबंध लिखकर भेज सकते हैं जोकि यूनिक व ओरिजनल होना चाहिए जिसकों हमारी वेबसाइट के माध्यम से हजारों लोग पढ़ेगें इसके लिए हमारे इस फेसबुक पेज पर मैसज करें।

10 Line Basant Panchami Short Essay Hindi- पहला

1. बसंत पंचमी प्रतिवर्ष फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाई जाती है।

2. पतझड़ के समाप्त होने के बाद जब सूखे पेड़ों पर नई कोंपलें निकलने लगती है तो इसे बसंत के मौसम की शुरुआत कहा जाता है।

3. बसंत पंचमी तक सब पेड़-पौधे नए पत्तों और फूलो से लद जाते है।

4. इस समय सरसों के खेतों में सरसों के पीले फूल लहलहा रहे होते है इसलिए पीले रंग का इस त्यौहार में बहुत मह्त्व है।

5. इस दिन लोग पीले कपड़े पहनते है और पीले रंग के मीठे चावल बनाते है।

6. बसंत के आते ही पूरा वातावरण खुशहाल हो जाता है।

7. पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन माता सरस्वती का अवतरण हुआ था।

8. उन्होने मौन और नीरस ब्रह्मांड को मधुर ध्वनियों और कलाओं से जीवन्त किया था।

9. इस दिन माँ सरस्वती की पूजा का भी विधान है।

10. इस दिन कला से जुड़े हुए सभी लोग खासतौर से माँ  सरस्वती की पूजा करते है और अपने क्षेत्र में आगे बढ़ने का आशीर्वाद प्राप्त करते है।


10 Line Basant Panchami Short Essay Hindi- दूसरा

1. बसंत पंचमी पर हम धरती पर एक बार फिर से आती हुई  हरियाली का स्वागत करते है।

2. शहरों में पेड़-पौधे इतने कम हो गए है कि बसंत की सुंदरता का किसी को आभास ही नही होता इसलिए शहरों में इस त्यौहार की अधिक रौनक दिखाई नही देती।

3. लेकिन गांवों में और खासकर जंगलों और वनो के आस-पास के गांवों में जब बसंत का मौसम आता है तो पूरा गाँव, जंगल आदि प्रकृति के अद्भूत सौंदर्य में नहा उठते है।

4. पशु-पक्षी भी फिर से पेड़-पौधों को हरा-भरा देखकर खुशी से झूमने लगते है।

5. मैदान हरी घास से भर जाते है इसलिए घास चरने वाले पशु भी पुलकित हो उठते है।

6. खिले हुए पेड़ों पर घोंसले बनाने के लिये पक्षी तिनके ढूंढने लगते है।

7. तोता, मैना, कोयल, पपीहा, बुलबुल मीठे स्वरों में गुनगुनाने लगते है।

8. मोर बसंत की मधुरिमा में खोकर अपने सुंदर पंख फैला कर मनमोहक नृत्य करने लगते है।

9. इसलिए गाँवों में आज भी यह त्यौहार पूरे जोर-शोर से मनाया जाता है।

10. लोग पीले कपड़े, पीली पगडी पहन कर रंग बिरंगे पेड़-पौधों के के बीच खुद को खो देना चाहते है जैसे कि वह भी प्रकृति के सौंदर्य का हिस्सा बनना चाहते हों।


10 Line Basant Panchami Short Essay Hindi- तीसरा

1. बसंत पंचमी कला और विद्या की देवी माता सरस्वती की पूजा का त्यौहार है।

2. यह प्रतिवर्ष फाल्गुन माह के शुक्लपक्ष की पंचमी को पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है।

3. पौराणिक कथाओं के अनुसार ब्रह्मा जी ने सारी सृष्टि की रचना की थी लेकिन सृष्टि में कोई ध्वनि नही थी सब कुछ बहुत ही नीरस था।

4. तब ब्रह्मा जी विष्णु भगवान के पास गए और अपनी चिंता व्यक्त की।

5. विष्णु जी ने उनकी समस्या का समाधान करने हेतु माँ दुर्गा का आवाहन किया उनके आवाहन करने पर माँ दुर्गा प्रकट हुई।

6. माँ दुर्गा जब ब्रह्मा जी की चिंता से अवगत हुई तो उनके शरीर से एक दिव्य स्वरूपा श्वेत वर्ण देवी प्रकट हुई।

7. उनके चार हाथ थे व एक हाथ में कमण्डल , एक हाथ में रुद्राक्ष की माला, एक हाथ में पुस्तक और एक हाथ में वीणा थी उन्होने श्वेत वस्त्र धारण कर रखे थे और हँस पर विराजमान थी।

8. उनके प्रकट होते ही जल, पवन, पशु-पक्षी सभी सुंदर ध्वनियों से युक्त हो गए और संसार सजीव हो उठा।

9. माँ दुर्गा ने कहा कि यह देवी सरस्वती है इनकी कृपा से विद्या और कला का संचार होगा और मानव का जीवन सार्थक होगा।

10. तभी से इस शुभ दिन कला और विद्या की देवी माँ  सरस्वती की पूजा भक्ति भाव से की जाती है।


10 Line Basant Panchami Short Essay Hindi- चौथा

1. वसंत पंचमी नई फसल की खुशियों से जुड़ा हुआ त्यौहार है।

2. हमारा देश कृषि प्रधान देश है साथ ही यह ऋतुओं का देश कहलाता है।

3. जितनी ऋतुए यहाँ बदलती है उतनी किसी भी देश में नही बदलती हैं।

4. हर ऋतु में अलग-अलग तरह के फल, सब्जियों की खेती होती है।

5. इसलिए जितने तरह के फूल, फल, सब्जियां, पेड़-पौधे यहाँ उगते है उतने किसी देश में नही उगते है।

6. हमारे देश में हर ऋतु का स्वागत त्यौहारों के साथ किया जाता है।

7. हमारे देश में छह ऋतुएं होती है – शीत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत और वसंत, इन सबमें वसंत सबसे महत्वपूर्ण है।

8. वसंत के साथ प्रकृति में जो सुंदरता बिखरती है वह किसी और ऋतु में नही होती है।

9. इसे ऋतुओं का राजा कहा जाता है हमारे देश के काव्य ग्रंथ वसंत ऋतु के बखान से भरे पड़े है।

10. इस दिन जगह-जगह वसंत के मेले लगते है तथा बच्चे और बूढ़े सभी मेलों का आनन्द लेते है।


10 Line Basant Panchami Short Essay Hindi- पांचवा

1. बसंत ऋतु का आगमन बसंत पंचमी से माना जाता है यह सर्दी और गर्मी के बीच का समय होता है।

2. इस दिन माता सरस्वती अवतरित हुई थी और इस दिन इनकी पूजा का बहुत ही महत्व होता है।

3. इस दिन सफेद या पीले वस्त्र पहन कर पूजा करनी चाहिएं।

4. माँ सरस्वती की प्रतिमा को सफेद वस्त्र धारण कराये जाते है।

5. फिर धूप-दीप तथा सफेद फूलों से उनकी पूजा आरती आदि की जाती है।

6. सफेद या पीले रंग के व्यंजनों से माँ को भोग लगाया जाता है।

7. इस दिन कला के क्षेत्र से जुड़े हुए लोग अपने उपकरणो की पूजा भी करते है।

8. जैसे लेखक कलम की, संगीतकार वाद्य यन्त्रों की, चित्रकार पेन्सिल और रंगों की पूजा करते है।

9. वह माता सरस्वती की प्रतिमा के साथ ही अपने उपकरण रखकर उनकी पूजा करते है तथा माता से अपनी कला में दक्ष होने का वरदान मांगते है।

10. जो भी अपनी कला के प्रति समर्पित भाव से उन्नति की ओर प्रयासरत होते है वह माँ की कृपा से सदैव उनकी प्रगति के रास्ते खुलते चले जाते है।

छठ पूजा पर निबंध प्रदूषण समस्या पर निबंध
दीवाली पर निबंध सोशल मीडिया पर निंबध
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ दहेज पर निबंध
जन्माष्टमी पर निबंध
ग्लोबल वार्मिंग निबंध
रक्षाबंधन पर निबंध
आज का पंचांग देखें
जन्माष्टमी पर निबंध
होली पर निबंध
ओणम पर निबंध
नवरात्रि पर निबंध

तो दोस्तों हमने आपको Basant Panchami पर 10 लाइन निबंध अलग-अलग प्रकार के लिखे हैं अगर आपको हमारे यह निबंध पसंद आते हैं तो आप अपनी आवश्यकता के अनुसार स्कूलों में इनका इस्तेमाल कर सकते हैं और साथ ही आपको भी इसके बारे में लोगों को अवगत करना चाहिए।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया 10 Line Basant Panchami निबंध काफी पसंद आए होंगे तो अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आता है तो उसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो हमे कमेंट करें।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मेरा नाम HP Jinjholiya है और इस Blog पर हर रोज नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी और अगर आप भी हमारे साथ काम करना चाहतें है हमें मेल करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.