Full Form: IAS क्या है और कैसे बने सम्पूर्ण जानकारी

आजकल सिविल सर्विस का सपना रखने वाले यवाओं की कोई कमी नहीं है क्योंकि लगभग हर ग्रेजुएट युवा की ख्वाहिश होती है कि वह आईएएस ऑफिसर बने परन्तु इसके लिए Full Form IAS क्या हैं औऱ IAS Officer कैसे बने इसकी सम्पूर्ण जानकारी होना बहुत आवश्यक हैं।

IAS को भारत के सर्वश्रेष्ठ पदों में से एक माना जाता है इसलिए लाखों स्टूडेंट्स हर साल इस परीक्षा को देते है लेकिन हर कोई इस परीक्षा को पास नहीं कर पाता कुछ गिने चुने स्टूडेंट्स ही आईएएस (IAS) की परीक्षा में सफलता हासिल कर पाते है।

full form IAS Kya hai kaise bane Hindi

इसलिए IAS Officer बनना कोई बच्चों का खेल नहीं है क्योंकि इस क्षेत्र में सफलता हासिल करने के लिए बहुत कड़ी मेहनत और समर्पण की जरूरत होती है इसलिए अगर आप IAS Officer बनाने का सपना रखते हैं तो सबसे पहले आपको IAS क्या हैं औऱ IAS Officer कैसे बने इसकी सम्पूर्ण जानकारी होनी चाहिए।

आज हम आपकों IAS क्या है, इसकी योग्यता क्या है, सिलेबस क्या है और IAS Officer बनने में कितना खर्चा आता है साथ ही इसके एग्जाम प्रॉसिजर के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने वाले है इसलिए एक बार आपकों इस आर्टिकल को पूरा पढ़ना चाहिए।

Full Form IAS क्या हैं

Full Form IAS यानी आईएएस का पूरा नाम Indian Administrative Services(इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज) जिसे हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा कहा जाता है। IAS Officer की भर्ती UPSC यानी संघ लोक सेवा आयोग द्वारा सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से की जाती है।

आजादी के बाद 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ उसी वर्ष संघ लोक सेवा आयोग(UPSC) ने IAS और अन्य केंद्रीय सेवाओं के लिए पहली परीक्षा आयोजित की थी जिसमें कुल 3647 परीक्षार्थियो ने भाग लिया था। भारत के पहले पुरुष IAS Officer सतेंद्र टैगोर थे और भारत की पहली महिला IAS Officer श्रीमती अन्ना राजम मल्होत्रा थीं।

IAS Officer क्या है

आईएएस (IAS) भारत सरकार की एक महत्वपूर्ण और प्रमुख  सेवा है वैसे तो इस सेवा की शूरूआत 1893 में ही हो चुकी थी लेकिन तब इसको आईएएस(IAS) नहीं बल्कि भारतीय शाही सेवा के नाम से जाना जाता था। आजादी के एक साल पहले 1946 में कुछ परिवर्तन के साथ इसको आईएएस(IAS) नाम से फिर से गठन किया गया और आजादी के बाद से भारत के शासन की पहचान के रूप में सिविल सेवाओं को देखा गया।

आईएएस (IAS) भारत की सबसे प्रमुख और कठिन परीक्षाओं में से एक है औऱ हर साल UPSC इस एग्जाम को कंडक्ट कराती है वैसे हर साल UPSC कुल मिलाकर 24 सर्विसेज के लिए एग्जाम करवाती है जिसमें आईपीएस (IPS), आईएएस (IAS), आईआरएस (IRS) इत्यादि शामिल है।

यूपीएससी में आईएएस(IAS) एग्जाम को क्लियर कर लेने के बाद कैंडिडेट्स को अलग-अलग जोन में भेज दिया जाता है जैसे कि डिस्ट्रिक्ट मेजिस्ट्रेट (DM), एस डी एम (SDM) इसके अलावा और भी बहुत सारे पोस्ट होते है जो आईएएस (IAS) की परीक्षा को पास करने के बाद दिया जाता है।

हर एक आईएएस (IAS) ऑफिसर का अपने-अपने जोन में अलग-अलग काम होता है तो आप लोग भी अगर IAS कि परीक्षा देने का मन बना रहे है तो सबसे पहले आप लोगो के लिए यह जानना जरूरी है कि IAS Officer बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिये।

IAS Officer बनने के लिए योग्यता 

Nationality

अगर आप एक IAS Officer बनने की ख्वाहिश रखते है तो आप भारत के नागरिक होने चाहिए तभी आप इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Educational Qualification

अगर आपने किसी भी सरकारी मान्यता प्राप्त कॉलेज से अपना ग्रैजुएशन पूरा कर लिया है तो आप IAS की परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते है अगर आप अभी ग्रेजुएशन फाइनल ईयर में है तब भी आप अप्लाई कर सकते है लेकिन शर्त यह है कि डॉक्यूमेंट जांच के समय तक आपकी डिग्री आपके हाथ में होनी चाहिए।

Number of Attempts

IAS Officer की परीक्षा पास करने के लिए अलग श्रेणियों के आधार पर कितनी बार परीक्षा दे सकते है यह निर्धारित किया गया है जैसे
-32 Years General 6 बार परीक्षा दे सकता है
-35 Years OBC 9 बार परीक्षा दे सकता है
-SC/ST के लिए कोई लिमिट नही रखी गयी है।

Age Criteria

एक IAS Officer बनने के लिए आपकी नून्यतम आयु 21 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए और अधिकतम आयु अलग श्रेणियों के लिए अलग-अलग निर्धारित की गई है।
-32 Years(General) के लिए आयु-सीमा
-35 Years (OBC) के लिए आयु-सीमा
-SC/ST के लिए 37 वर्ष की आयु-सीमा

तो अगर आपके पास ऊपर दिए गई योग्यताएं है तो आप IAS के लिए आवेदन कर सकते है। आवेदन करने के कुछ महीनों बाद आपको आईएएस की प्रारंभिक परीक्षा के लिए बैठना होगा इसलिए आईएएस के लिए आवेदन करने से पहले आपको IAS Selection Procedure और Syllabus के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए।

IAS Officer चयन प्रक्रिया की जानकारी

IAS Officer बनने के लिए आपको मुख्य रूप से तीन इम्तिहान से गुजरना होगा सबसे पहले आपके प्रारंभिक परीक्षा होगी यह इम्तिहान सिर्फ क्वालीफाइंग नेचर का होता है और अगर आप इस परीक्षा को पास करते है तो आपको मुख्य परीक्षा (Mains) के लिए बुलाया जायगा और अगर आप मुख्य परीक्षा को क्लियर कर लेंगे तब आपका आखरी और सबसे खास इम्तिहान होगा।

मतलब Prelims और Mains को क्लियर कर लेने के बाद आपका Interview होगा तो चलिए जानते है कि प्रारंभिक और मुख्य परीक्षाओं के Syllabus क्या होंगे क्योंकि सिलेबस जाने बिना आप इस परीक्षा को किसी भी सूरत में सफलता प्राप्त नहीं कर सकते हैं।

IAS Syllabus की जानकारी

IAS Prilims परीक्षा में दो पेपर होंंगे और दोनो पेपर सामान्य अध्ययन के होंगे साथ ही 200, 200 अंको केे होंगे यानी कि कुुुल मिलाकर 400 अंको के पेपर होंगे इन दोनों में से 2nd पेपर सिर्फ क्वालीफाइंग पेपर होगा।

इस पेपर में आपको सिर्फ और सिर्फ 33% मार्क लाने होंगे और सिर्फ पेपर 1 के मार्क के आधार पर आपके प्रीलिम्स का कट ऑफ बनेगा अगर आप उस कट ऑफ को पार कर जाते है और पेपर 2 में 33% मार्क लेने में सफल हो जाते है तो आप मुख्य परीक्षा के लिये योग्य पात्र बन जाते है।

IAS Prilims Paper-1 Syllabus- 200 Marks

1. राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय वर्तमान घटनाएं
2. भारत और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का इतिहास
3. भारतीय और वैश्विक भूगोल
4. भारत और दुनिया का प्राकृतिक, सामाजिक और आर्थिक भूगोल
5. भारतीय राजनीति और शासन- संविधान, राजनीतिक प्रणाली, पंचायती राज, सार्वजनिक नीति, अधिकारो के मुद्दे इत्यादि
6. आर्थिक और सामाजिक विकास,गरीबी, समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहलें इत्यादि
7. पर्यावरण पारिस्थितिकी, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन पर ज्वलंत मुद्दे।
8. सामान्य विज्ञान।

IAS Prilims Paper-2 Syllabus- 200 Marks

1. बोधगम्यता
2. पारस्परिक कौशल, संचार कौशल सहित।
3. तार्किक क्षमता और विश्लेषणात्मक क्षमता।
4. निर्णय लेने और समस्या समस्या को विश्लेषण की क्षमता।
5. सामान्य मानसिक योग्यता।
6. बेसिक संख्यात्मक योग्यता, संख्याएं और उसमें आपसी संबंध (डेटा इंटरप्रिटेशन, चार्ट, ग्राफ, टेबल, डेटा पर्याप्तता आदि) ध्यान रखें यह सारे प्रश्न दसवीं कक्षा के स्तर के होंगें।

अब बारी आती हैं मुख्य परीक्षा की। तो चलिए यह भी जान लें मुख्य मुख्य परीक्षा का पाठ्यक्रम थोड़ा गहरा और विस्तार है। मुख्य परीक्षा में मूल रूप से 9 पेपर होते है जिसमें 7 पेपर के मार्क अंतिम मेरिट रैंकिंग में जोड़े जाएंगे और बाकी दो पेपर क्वालीफाइंग नेचर के पेपर होंगे औऱ क्वालीफाइंग पेपर में पेपर A और पेपर B नाम से 2 पेपर होंगे।

पेपर A की जानकारी 

इसमे आप अपने पसंद की कोई भी एक भाषा चुन सकते है जो भारतीय संविधान कि आठवी अनुसूची में शामिल है। पेपर A में कुल मिलाकर 300 मार्क्स होंगे जिसमें से 30% मार्क्स आपको लाने होंगे। आपके लिए यह जानना जरूरी है कि कुछ राज्य ऐसे है जिनके कैंडिडेट्स के लिए इस परीक्षा को देना अनिवार्य नहीं है पेपर A के सिलेबस इस प्रकार है

1.Comprehension Of Given Passege

इसमें आपको एक आर्टिकल या कहानी मिलेगी उसको अच्छे से पढ़ना और समझना है उसके बाद आपको कुछ प्रश्न मिलेंगे जो उस लेख के नीचे दिए होंगे अब आपको उस आर्टिकल के आधार पर उन प्रश्नों का उत्तर देना है।

2. Presic Writing

इसमें आपकी राइटिंग स्किल को चेक किया जायेगा इसमें आपको जो टॉपिक दिया जायेगा उसपर आपको लेख लिखना है।

3. Usage And Vocabulary

इसमे पोर्शन में आपको सही शब्द का सही जगह पर प्रयोग करना है।

4. Short Essay

निबंध तो हम सब बचपन से ही लिखते आ रहे है और इस सेक्शन में आपको Short Essay लिखने होगें जैसा कि हैडिंग से पता लग रहा है।

5. Translation From English to the Indian Language

इसमे आपको कुछ वाक्य मिलेंगे जिनको आपको इंग्लिश में अनुवाद करना है या इंग्लिश से अपने चुने हुए भाषा में।

पेपर B की जानकारी

पेपर B में भी कुल मिलाकर 300 अंक होंगे और पास होने के लिए आपको कम से कम 25% मार्क्स याने की 75 अंक लाने होंगे। यह पेपर इंग्लिश लैंग्वेज (Language) का होगा। पेपर B के सिलेबस इस प्रकार है।

1. Comprehension Of Given Passege

2. Presic Writing

3. Usage And Vocabulary

4. Short Essay

अब बात आती है योग्यता रैंकिंग वाले पेपर्स के बारे में तो जैसा कि हमनें पहले ही बताया आईएएस(IAS) के फाइनल चुनाव के लिए मैंस के 9 पेपर्स में से 7 पेपर्स में अच्छा प्रदर्शन करना बहुत ज्यादा जरुरी होता है। इन 7 पेपर्स के नंबर के आधार पर ही परीक्षार्थियों की रैंकिंग बनती है और उनको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता था।

रैंकिंग पेपर्स का पाठ्यक्रम

1. पेपर 1 (निबंध)-250 मार्क्स

यह निबंध (essay) का पेपर है। इसमें आपको दिए गए टॉपिक पर निबंध लिखना होता है। आप अपने पसंद की किसी भी भाषा मे निबंध लिख सकते है।

2. पेपर 2 (सामान्य अध्ययन I)-250 मार्क्स 

कुछ खास विषयों के अंदर से सामान्य अध्ययन के प्रश्न इस पेपर मे पूछे जातें हैं। कुल मिलाकर इसमें पांच सब्जेक्ट्स होतें हैं वह विषय है – भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व का भूगोल एवं इतिहास और समाज।

3. पेपर 3 ( सामान्य अध्ययन II)-250 मार्क्स

सामान्य अध्ययन II के पेपर में भी सामान्य अध्ययन  के प्रश्न आते है। इस पेपर के विषय है गवर्नेस, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अंतरराष्ट्रीय संबंध।

4. पेपर 4 ( सामान्य अध्ययन III)-250 मार्क्स

यह भी सामान्य अध्ययन का ही पेपर है लेकिन इसके पाठ्यक्रम अलग है। इस पेपर के विषय है प्रद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन।

5. पेपर 5 ( सामान्य अध्ययन IV)-250 मार्क्स 

6. पेपर  6 ( वैकल्पिक विषय-पेपर I)-250 मार्क्स

7. पेपर 7  ( वैकल्पिक विषय-पेपर II)-250 मार्क्स

आईएएस (IAS) के वैकल्पिक विषय में कुल मिलाकर 48 विषय होते हैं और इन 48 विषयों में से आपको अपने पसंद की कोई भी एक विषय चुनना होता है। यह दोनों पेपर बहुत ज्यादा इम्पॉर्टेन्ट होते है और फाइनल सिलेक्शन के लिए काफी ज्यादा मैटर करते हैं।

आपको वैकल्पिक सब्जेक्ट चूज करने से पहले यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आपकी पकड़ कौन से विषय में सबसे अच्छी है औऱ कौन से विषय में आप सबसे अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। क्योंकि यह जरूरी नही है कि आपने जिस सब्जेक्ट से अपना ग्रेजुएशन कम्पलीट किया है या यूं कह लो कि ग्रेजुएशन में जो आपका ऑनर्स विषय था उसी को आप वैकल्पिक सब्जेक्ट के तौर पे चुने।

आप अपने रुचि और टैलेंट के हिसाब एक अच्छा सा विषय इसके लिए चुन सकते है दोनो वैकल्पिक सब्जेक्ट्स 250, 250 यानी टोटल 500 मार्क्स कैरी करते है वह 48 विषय इस प्रकार से हैं।

1. इतिहास2. भूगोल3. अर्थशास्त्र
4. समाजशास्त्र5. लोक प्रशासन6. मनोविज्ञान
7. राजनीतिविज्ञान8. कृषि9. पशु पालन-पशु चिकित्सा विज्ञान
10. नृ विज्ञान11. वनस्पति विज्ञान12. रसायन विज्ञान
13. सिविल इंजीनियरिंग14. वाणिज्य15. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
16. भू विज्ञान17. कानून18. गणित
19. प्रबंधन20. मेकेनिकल इंजीनियरिंग21. भौतिकी
22. चिकित्सा विज्ञान23. सांख्यिकी24. जंतु विज्ञान
25. दर्शनशास्त्र26 असमीया27. बंगाली
28. बोड़ो29. डोगरी30. गुजराती
31. हिंदी32. कन्नडा33. कश्मीरी
34. कोंकणी35. मैथिली36. मलयालम
37. मणिपुरी38. मराठी39. नेपाली
40. ओरिया41. पंजाबी42. संस्कृत
43. संथाली44. सिंधी45. तमिल
46. तेलेगु47. उर्दू48. इंग्लिश

व्यक्तित्त्व परीक्षण इंटरव्यू की जानकारी

अगर आप मुख्य परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करते है और बेहतर रैंक हासिल करने में सफल हो पाते हैं तो आपको साक्षात्कार यानी इंटरव्यू में शामिल होने के लिए बुलाया जायेगा और व्यक्तित्व परीक्षण 275 अंको का होगा जिसमें फाइनल चुनाव के लिए आपको इसमे बेहतर प्रदर्शन करना होगा और ज्यादा से ज्यादा अंक प्राप्त करने होगें।

बात करे साक्षात्कार में पूछे जाने वाले प्रश्नों की तो इसमें मूल रूप से आपके व्यक्तिगत विचार और उपस्थित बुद्धिमत्तता को टेस्ट किया जायेगा औऱ आपको वहा पर ऐसे-ऐसे प्रश्न पूछे जा सकते है जिसको सुनकर अच्छे से अच्छा दिमागवाले भी घबड़ा जाये

लेकिन घबड़ाने के बजाय अगर आप थोड़े से ठंडे दिमाग से सोंचे और समझदारी दिखाएं तो आप उन सवालों का जवाब दे सकते है और सफलता के आखरी जंग में सफलतापूर्वक जीत हासिल कर सकते है।

आईएएस (IAS) की तैयारी का खर्चा

आईएएस (IAS) बनने में एक अच्छी खासी बैंक बैलेंस की जरूरत पड़ती है और अगर आप किसी पिछड़े एरिया में रहतें हैं तो खर्चा और भी बढ़ जाता है हाँ, अगर बात दिल्ली जैसी शहर की हो खर्चे में काफी राहत मिल जाती है।

खर्चे के अंदर आप लोगो को कोचिंग का खर्चा, स्टडी मेटेरियल्स का खर्चा, अगर आप अलग शहर में रहकर कोचिंग करते हैं तो उधर रहने खाने का खर्चा, टेस्ट सीरीज का खर्चा इत्यादि मैनेज करना होगा। अगर ओवरऑल खर्चे की बात करे तो कुल मिलाकर डेढ़ लाख से लेकर दो लाख रुपये तक का खर्चा इसमें आ सकता हैं।

वैकल्पिक विषय के लिए कोचिंग में आपको कम से कम 45 से 60 हजार तक का खर्चा आएगा उसके अलावा प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा का टेस्ट सीरीज लगाने में कम से कम 15 हजार। निबंध, सीसेट, अंग्रेजी का अनिवार्य पेपर और क्षेत्रीय भाषा जैसे कुछ कोर्स के लिए अलग कोचिंग करने में कम से कम 20000 का खर्चा आएगा बाकी स्टडी मेटेरियल का खर्चा कम से कम 30000 मान कर चलिए।

हमने करेंट अफेयर्स और पत्रिकाओं पर लगने वाले अलग खर्च को जोड़ा ही नहीं है उसके अलावा हमनें रूम रेंट और परिवहन के खर्च को भी छोड़ दिया है क्योंकि सबकी परिस्थिति अलग अलग होती है बात करे कोचिंग की तो अलग-अलग कोचिंग संस्थानों की फीस भी कम ज्यादा होती है तो आप लोग अपनी सहूलियत के हिसाब से सेट कर ले बाकी फीस का एक ओवरऑल हिसाब तो हमनें दे ही दिया है।

अब बारी आती है कर्तव्य की क्या आप लोग यह जानते हैं अगर आप लोग एक आईएएस(IAS) अफसर बन गए तो आपके दायित्व क्या क्या होंगे?

एक आईएएस (IAS) ऑफिसर का दायित्व

एक आईएएस (IAS) अधिकारी का कार्य होता है अपने क्षेत्र में तैनात होने के बाद सरकारी नीतियों को लागू करना और जनता और सरकार के बीच मीडिएटर के रूप में कार्य करते हुए दैनिक मामलों का संचालन करना।

हमारी रिसर्च के अनुसार एक आईएएस (IAS) कानून के तहत कानून और व्यवस्था, राजस्व प्रशासन और सामान्य प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है इसके अलावा एक आईएएस(IAS) अफसर का कार्य होता है

1. कार्यकारी मजिस्ट्रेट के रूप में कार्य

2. कानून और व्यवस्था का रखरखाव

3. राजस्व मामलों में अदालतों के रूप में राजस्व और कार्य का संग्रह

4. मुख्य विकास अधिकारी (SDO)/जिला विकास आयुक्त के रूप में कार्य

5. राज्य सरकार और केंद्र सरकार के नीतियों के कार्यान्वयन का पर्यवेक्षण

6. नीतियों की कार्यान्वयन की निगरानी के लिये विभिन्न स्थानों की यात्रा करना

7. वित्तीय स्वामित्व के मानदंडों के अनुसार सार्वजनिक नीतियों व्यय का पर्यवेक्षण

8. नीति तैयार करने और निर्णय लेने की प्रक्रिया में संयुक्त सचिव, उप सचिव आदि जैसे विभिन्न स्तरों पर आईएएस (IAS) अधिकारी अपना योगदान देतें हैं और नीतियों को अंतिम आकार देतें हैं।

9. संबंधित मंत्रालय के प्रभारी के परामर्श से नीति के निर्माण और कार्यान्वयन सहित सरकार के दैनिक मामलों को संभालने के लिए।

अब आप भी सोच रहें होंगे की अगर एक आईएएस (IAS) ऑफिसर इतनी सारी जिम्मेदारियां निभाता है तो जरूर उसके पास काफी सारी शक्तिया और अधिकार होंगे आइये अब हम एक आईएएस (IAS) ऑफिसर के अधिकारों के बारे में जानतें हैं।

आईएएस (IAS) ऑफिसर के अधिकार और शक्तियां

एक आईएएस (IAS) अधिकारी पूरे जिले में सबसे ज्यादा प्रभावशाली व्यक्ति होता है वह जिले के हर विभाग का मार्गदर्शन करता है चाहें वह पुलिस विभाग हो या स्वास्थ विभाग औऱ केंद्र में भी सभी मंत्रालयों के सचिव आईएएस (IAS) अधिकारी ही होतें हैं चाहे मंत्रालय कोई भी हो।

अंग्रेजो द्वारा बनाई गई इस सर्विस को हेवेन बोर्न सर्विस (Heaven Born Service) भी कहतें हैं कहा जाता है कि जितना मुश्किल इस सर्विस में प्रवेश करना है उतना ही मुश्किल इस सर्विस के व्यक्ति को हटाना भी है अगर आप एक आईएएस (IAS) ऑफिसर बन जाते हैं तो आप निम्नलिखित पदनाम के अधिकारी होंगे।

1. एस. डी. ओ/एस. डी. एम/ संयुक्त कलेक्टर/ मुख्य विकास अधिकारी (सी. डी. ओ)

2. जिला मजिस्ट्रेट/जिला कलेक्टर/डिप्टी कमिश्नर

3. विभागीय आयुक्त

4. सदस्य बोर्ड ऑफ राजस्व

5. राजस्व बोर्ड के अध्यक्ष

6. चुनाव आयुक्त

इन सबके अलावा भी एक आईएएस (IAS) ऑफिसर सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों के प्रमुख होते हैं आम बोलचाल की भाषा में हम एक आईएएस (IAS) अधिकारी को किसी जिले का राजा कह सकते हैं। सभी कानूनी और गैरकानूनी कार्यवाही उन्हीं के मुताबिक होती है एक आईएएस(IAS) अधिकारी अगर चाहे तो कुछ ही दिनों में किसी जिले की काया पलट कर रख सकता है।

क्या आपको पता हैं कि हमारे देश में कितने आईएएस (IAS) ऑफिसर है? अगर नहीं तो चलिए जानते हैं। हमारे देश भारतवर्ष में आईएएस (IAS) के लिए कुल स्वीकृत पदों की संख्या 6500 हैं जिसमें से अभी तक कुल 5004 पदों पर नियुक्ति की जा चुकी है और 1496 पद रिक्त पड़े हैं।

>SSC क्या है और SSC की तैयारी कैसे करें
>BSC क्या है और फायदे सम्पूर्ण जानकारी
>MBA क्या है सम्पूर्ण जानकारी
>(Pilot)पायलट कैसे बने और बने का खर्चा क्या है

IAS Officer की सैलरी की जानकारी

During Trainning- एक आईएएस (IAS) अफसर को ट्रेनिंग के दौरान बेसिक पे (Basic pay) – 56000, डी ए (DA) – 2800 यानी कुल मिलाकर 58800 रुपये के आस पास सैलरी मिलती है।

After trainning- ट्रेनिंग के बाद एक आईएएस (IAS) अफसर को अच्छी खासी सेलरी मिलती है हम आपको बता दें कि एक आईएएस (IAS) ऑफीसर की सैलरी 56100 से शुरू होकर सर्वोच्च पर जैसे कैबिनेट सचिव के लिए 25000 रुपये तक जाती है।

IAS Officer सैलरी ग्रेड के मुताबिक

जूनियर या लोअर टाइम स्केल- इस स्केल के अफसर को 15600 से लेकर 39100 तक वेतन मिलता है साथ ही ग्रैड पे 2400 मिलती है इस ग्रैड के अंदर आने वाले पद हैं – SDM, SDO

सीनियर टाइम स्केल- इस स्केल के आईएएस (IAS) अफसर को भी 15600 से लेकर 39100 तक का पे स्केल मिलता है लेकिन इनका ग्रेड पे 6600 तक होता है। इस ग्रैड के अंदर आने वाले पद है  DM, कलेक्टर, किसी सरकार मंत्रालय का संयुक्त सचिव।

जूनियर एडमिनिस्ट्रेटिव- इस स्केल के आईएएस (IAS) अफसर को भी 15600 से लेकर 39100 तक कि सैलरी मिलती है लेकिन इनका ग्रेड पे 7600 तक होता है। इस ग्रैड के अंदर आने वाले पद है – विशेष सचिव, सरकारी मंत्रालयों का प्रमुख।

सेलेक्शन ग्रेड- इस स्केल की सैलरी ज्यादा होती है इसके अफसर को 37400 से लेकर 67000 तक सैलरी मिलती है और ग्रेड पे 8700 मिलता है। इस ग्रैड के अंदर आने वाले पद है – किसी मंत्री का सचिव।

सुपर टाइम स्केल- इस स्केल की सैलरी 37400 से लेकर 67000 तक होती है और ग्रैड पे 8700 इसके अंदर आने वाले पद है – सरकार के काफी अहम विभाग का सचिव।

एपेक्स स्केल- इस स्केल में 80000 की फिक्स्ड सैलरी मिलती है और कोई भी ग्रैड पे नही मिलता इस ग्रैड के अंदर आने वाले पद है – राज्यों के मुख्य सचिव, भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों के प्रभारी केंद्रीय सचिव।

अगर आपने पूरा आर्टिकल दिल से पढ़ा है तो जरूर आपका आईएएस की नौकरी के साथ एक खास लगाव है ऐसे में आपका हक बनता है यह जानने का की आईएएस (IAS) की तैयारी हम कैसे करे जिससे सफलतापूर्वक इस पद को हासिल कर सके।

आईएएस (IAS) की तैयारी कैसे करें  

जल्द से जल्द कर दें तैयारी की शुरुआत

अगर आप  सीरियसली सिविल सर्विस में अपना कैरियर डेवेलोप करना चाहतें हैं तो आप लोगो को कम से कम 19 साल में अपनी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

न्यूजपेपर, टेलीविजन, मैगजीन से अटैच रहे

आपको रेगुलर न्यूजपेपर पढ़ना है, टेलीविजन में न्यूज सुनना है और अगर पॉसिबल हो तो कुछ क्वालिटी मैगजीन को रीड करते रहे साथ ही आप द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस जैसे न्यूजपेपर और बीबीसी या डीडी न्यूज बुलेटिन का उपयोग कर सकते हैं।

NCERT से करें शुरुआत

सिविल सर्विस के लिए अगर तैयारी करनी है तो NCERT से बेहतर शुरुआत कोई हो ही नहीं सकती हैं आप NCERT से पहले सिलेबस के बेसिक कॉन्सेप्ट को समझ ले उसके बाद डीप में जाएं।

टाइम टेबल सेट करें

अच्छा टाइम मैनेजमेंट एक अच्छे स्टूडेंट की सबसे बड़ी पहचान होती है आप लोग जब अपना बेसिक कॉन्सेट क्लियर कर ले और डीप स्टडी में प्रवेश करें तब सबसे पहले अपना टाइम टेबल सेट करे।

मॉक टेस्ट भी है बहुत जरूरी

अपनी तैयारी के दौरान आप मॉक टेस्ट को गलती से भी इग्नोर ना करें दरअसल स्टडी जितनी जरूरी है आपके लिए उतना ही जरूरी है मॉक टेस्ट। आप बीच बीच में अपने टाइम टेबल के हिसाब से मॉक टेस्ट जरूर लगाते रहें ऐसा करने से आपको अपनी तैयारी का अंदाजा लगता रहेगा।

किताबो का चयन सोच समझकर ही करें

आपकी स्टडी में इस बात से भी काफी फर्क पड़ेगा कि आप किताबो का चयन कैसे करते हैं आप हमेशा अच्छे राइटर का ऑथेंटिक बुक ही चूस करे।

विगत वर्षो के प्रश्न पत्रों को हल करते रहें

समय-समय पर विगत वर्षो के प्रश्न पत्रों को हल करते रहने से ना सिर्फ आप लोगो को एग्जाम पैटर्न का आईडिया लगेगा साथ ही साथ आपको कुछ ना कुछ नया सीखने को मिलते रहेगा और आपकी स्टडी क्वालिटी भी अच्छी हो जाएगी।

उम्मीद करते हैं की आपने इस लेख से आईएएस (IAS) के बारे में लगभग सारी जानकारी प्राप्त कर ली होगी और अपने सपने की तरफ एक और कदम बढ़ा लिया होगा। हमने तो अपनी तरफ से आईएएस(IAS) के हर टॉपिक को कवर करने का प्रयास किया लेकिन अगर अभी भी आपके मन में कोई डाउट है तो आप कमेंट जरूर करें।

अंत में हम आपसे यही कहेंगे कि आप इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि IAS Officer का सपना रखने वाले हर एक स्टूडेंट को इसके बारे में पूरी और सही जानकारी प्राप्त हो सके।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.