दुनिया की सबसे पवित्र किताब और प्रचीनत्म ग्रँथ कौन है

WhatsApp Channel Join
3.1/5 - (9 votes)

मानवता के इतिहास में अनगिनत किताबें लिखी गई है जिसमें से कुछ ऐसी किताबें हैं जोकि धार्मिक ग्रंथों पर आधारित है और इन्ही किताबों को दुनिया की सबसे पवित्र किताब में से एक माना जाता है जोकि समस्त मानवता को एक साथ लाने और सच्चे-सही मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करती है।

हालांकि संस्कृति, धर्म, और विश्वासों के अनुसार प्रत्येक समुदाय अपनी-अपनी मान्यताओं और धार्मिक ग्रंथों को पवित्र मानता है लेकिन एक ऐसी किताब जो बिना किसी संबंध के सभी मानवता को एकजुट करने की क्षमता रखती है।

आज हम आपको एक ऐसी किताब के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे अनेक समुदाय एकमत में स्वीकार करते हैं और जो मानवता के उजाले की दिशा में प्रेरणा प्रदान करती है चलिए हम देखते हैं कि वह कौन सी किताब है।

duniya ki sabse pavitra kitab kaun si hai- दुनिया की सबसे पवित्र किताब और प्रचीनत्म ग्रँथ कौन है

दुनिया की सबसे पवित्र किताब


मानवता के विकास में धर्म और धार्मिक ग्रंथों का बड़ा महत्व होता है और प्रत्येक समुदाय अपनी-अपनी मान्यताओं और धार्मिक ग्रंथों को पवित्र मानता है और अपनी धरोहर के रूप में सम्मान करता है। इन ग्रंथों के माध्यम से मानव जाति को सच्चे मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया जाता है और समाज में समरसता और एकता को प्रोत्साहित किया जाता है।

लेक़िन दुनिया की सबसे पवित्र क़िताब वहीं है जो समस्त मानवता को एक साथ लाने और शांति, समरसता, और सभी के एक सामान होने के लिए प्रेरित करती है जिसको अपने जीवन में अमल करके धार्मिकता और उच्च आदर्शों की दिशा में बढ़ जा सकते हैं।

तो चलिए सबसे पहले विभिन्न धर्मों के पवित्र धरोहर के बारे में जानते है और स्वभाविक तौर पर उनके लिए दुनिया की सबसे पवित्र किताब कोनसी है उसकी लिस्ट देखते है।

भगवद गीता

भगवद गीता, भारतीय संस्कृति का एक महत्वपूर्ण धार्मिक ग्रंथ है जिसे भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को उपदेश दिया था। इसमें जीवन के विभिन्न पहलुओं पर विचार किया गया है, जिसमें ज्ञान, कर्म, ध्यान, भक्ति, और वैराग्य के महत्वपूर्ण सिद्धांत शामिल हैं। यह ग्रंथ विभिन्न धर्मीय सम्प्रदायों के लोगों के लिए वैष्णव, शैव, शाक्त, वैषेषिक, नैयायिक, और जैन सम्प्रदाय का भी एक मूलभूत स्रोत है।

बाइबल

बाइबल, यूदी और ईसाई संस्कृति का पवित्र धरोहर है जिसमें ईसा मसीह के जीवन, उपदेश, और उनके प्रेरक वचनों का वर्णन है। यह ग्रंथ ईसाई धर्म के अनुयायियों के लिए महत्वपूर्ण एवं पवित्र समझा जाता है। बाइबल में साधारणत: दो भाग होते हैं – पुराना नियम और नया नियम।

कुरान

कुरान, इस्लाम धर्म का प्रमुख धार्मिक ग्रंथ है जो आल्लाह के वाहिद भगवानत्व और पैगम्बर मुहम्मद साहब के उपदेशों को समर्थन करता है इसमें अनेक सिद्धांत और धार्मिक उपदेश होते हैं जो इस्लामी समुदाय के लिए महत्वपूर्ण हैं।

त्रिपिटक

त्रिपिटक, बौद्ध धर्म के प्रमुख धार्मिक ग्रंथ है जो गौतम बुद्ध के उपदेशों को समावेश करता है यह ग्रंथ बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए उनके जीवन के मार्गदर्शक का कार्य करता है।

गुरुग्रंथ साहिब

गुरुग्रंथ साहिब सिख धर्म का प्रमुख धार्मिक ग्रंथ है जिसमें पहले गुरुओं और संत बाबा नानक देव जी से लेकर अन्य गुरुओं के उपदेश शामिल हैं। यह ग्रंथ सिख समुदाय के लिए उनके आचारधर्म, विचारधारा, और समाज के विकास के लिए प्रेरक कार्य करता है।

दुनिया की सबसे पवित्र किताब कौन सी है?


भगवद गीता एक प्राचीन संस्कृत ग्रंथ है जो महाभारत महायुद्ध के मध्य अर्जुन और कृष्ण के बीच हुआ था यह ग्रंथ महाभारत के भीष्म पर्व के अन्तर्गत स्थित है और इसमें 700 श्लोक हैं जिन्हें भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को जीवन के महत्वपूर्ण सवालों का समाधान करने के लिए उपदेश दिया था।

भगवद गीता में ज्ञान, कर्म, भक्ति, ध्यान, और वैराग्य के सिद्धांत उपलब्ध होते हैं यह ग्रंथ विभिन्न धर्मों, जीवन दर्शनों, और समाजों के लोगों के लिए वैष्णव, शैव, शाक्त, वैषेषिक, नैयायिक, और जैन सम्प्रदाय का भी एक मूलभूत स्रोत है।

भगवद गीता में न केवल धार्मिक तत्वों की बात है बल्कि विज्ञान, राजनीति, मनोविज्ञान और योग के सिद्धांतों के भी व्याख्यान हैं इसकी शिक्षाएँ जीवन के हर क्षेत्र में सफलता के लिए मार्गदर्शक सिद्ध होती हैं और इसे विश्व की सबसे प्रेरक किताबों में से एक मानी जाती है।

भगवद गीता का संदेश हृदय से जुड़ा हुआ है और इसके उपदेशों को अपने जीवन में अमल करके मानवता आत्मनिर्भरता, समरसता, और एकात्मता की दिशा में प्रगति कर सकती है इसलिए भगवद गीता को दुनिया की सबसे पवित्र किताब के रूप में स्वीकारा गया है जो सभी मनुष्यों के लिए एक अमूल्य धरोहर है।

भगवद गीता के सिद्धांत पढ़े प्रत्येक इंसान


भगवद गीता एक अद्भुत ग्रंथ है जो मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं को समझाता है और एक प्रकार से जीवन के उपाय बताता है। इसमें कई महत्वपूर्ण सिद्धांत और संदेश हैं, जिन्हें हर व्यक्ति को जानना चाहिए। यहां कुछ प्रमुख बातें हैं जो प्रत्येक इंसान को पता होनी चाहिए:

धर्म कर्म का सिद्धांत (धर्मयोग):

भगवद गीता में कहा गया है कि हमें अपने कर्तव्य करने में लगना चाहिए व फल की चिंता नहीं करनी चाहिए तथा धर्म के मार्ग पर चलने से व्यक्ति अपने कर्मों के लिए स्वाधीनता महसूस करता है और समस्त कर्मफल को ईश्वर की इच्छा के अनुसार स्वीकार करता है।

समता (सात्विक बुद्धि):

गीता में समस्त जीवों के प्रति समता का सिद्धांत है इससे यह समझा जाता है कि हमें सभी लोगों के प्रति सम्मान और सहानुभूति रखनी चाहिए चाहे वे हमारे समझ में आएं या फिर न आएं।

आत्म-विकास (योग):

भगवद गीता में अनेक प्रकार के योगों के बारे में बताया गया है जैसे कर्मयोग, भक्तियोग, ज्ञानयोग, और ध्यानयोग और ये योग व्यक्ति के आत्म-विकास और मानसिक शक्तियों का विकास करते हैं।

धैर्य और साहस:

गीता में संयम, धैर्य, और साहस के महत्व का भी जिक्र है तथा व्यक्ति को अध्यात्मिक और नैतिक मामूली परिवर्तन के लिए इन गुणों की आवश्यकता होती है।

अनासक्ति और अहंकार का त्याग:

गीता में अनासक्ति और अहंकार का त्याग करने का उपदेश दिया गया है और व्यक्ति को सभी कार्यों को निःस्वार्थ भाव से करने की सीख दी जाती है।

अध्यात्मिक समृद्धि के लिए श्रद्धा:

गीता में भगवान के प्रति श्रद्धा और भक्ति का महत्वपूर्ण स्थान है और यह अध्यात्मिक विकास के लिए भी आवश्यक है।

संयम का महत्व:

गीता में मन, इंद्रियों और संयम के महत्व को बताया गया है तथा व्यक्ति को अपने मन और इंद्रियों को वश में करना चाहिए।

समस्या का सामना करना:

भगवद गीता में बड़ी दिक्कतों और संघर्षों का सामना करने के लिए साहस और सामर्थ्य दिखाने का संदेश है। यह बड़ी मुश्किलों से निपटने की कला सिखाता है और अध्यात्मिक बढ़ते हुए व्यक्ति को निर्भय बनाता है।

ये कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जो भगवद गीता में उपलब्ध हैं और प्रत्येक इंसान को इन्हें समझने और अपने जीवन में अमल करने में मदद कर सकती हैं यह ग्रंथ अपने अनमोल सिद्धांतों के लिए प्रसिद्ध है जो मानव जीवन को सच्चे धर्म, उच्चतम आदर्शों, और आत्म-विकास की दिशा में प्रेरित करती हैं एक ऐसी किताब जो बिना किसी संबंध के सभी मानवता को एकजुट करने की क्षमता रखती है वह है “भगवद गीता” इसलिए भगवद गीता दुनिया की सबसे पवित्र किताब माना जाता है।

अंत में भगवद गीता एक महत्वपूर्ण धार्मिक ग्रंथ है जो मानवता के जीवन में व्यापक प्रभाव डालता है और साथ ही यह ग्रंथ धार्मिकता, आध्यात्मिकता और नैतिकता के मूल्यों को संक्षेप में समझाने का प्रयास करता है।

भगवद गीता के माध्यम से आप कर्मयोग, ध्यान, समत्व, और सेवा जैसे सिद्धांतों के अनुसरण से एक संतुलित, शांत और सफल जीवन जी सकते हैं और हमारे जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने, आत्मनिरीक्षण करने, और सच्चे ध्येय की प्राप्ति के लिए भगवद गीता एक अनमोल रत्न है।

हालांकि अन्य धर्मों में भी अपने विशिष्ट धार्मिक ग्रंथों को पवित्र और महत्वपूर्ण धरोहर माना जाता है उदाहरण के लिए, बाइबल यूदी और ईसाई संस्कृति के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है और कुरान इस्लाम धर्म का प्रमुख धार्मिक ग्रंथ है इसलिए पवित्रता की परिभाषा अपने-अपने धर्म और संस्कृति के अनुसार भिन्न होती है और हर धर्मीय समुदाय अपने धार्मिक ग्रंथों का सम्मान करता है।

इसलिए इसमें सहमति और असहमति का मूल्यांकन व्यक्तिगत विचार के अनुसार हो सकता है हम सभी के धार्मिक और मान्यताओं का सम्मान करते हैं और हम सभी को एकमत के साथ आत्मविश्वासपूर्ण और समरस जीवन जीने के लिए प्रेरित करते हैं।

तो हम हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी यह जानकारी बेहद पसंद आई होगी क्योंकि इसके लिए हमने बेहद रिसर्च और अध्ययन करके आपके लिए दुनिया की सबसे पवित्र किताब बेहतरीन आर्टिकल तैयार किया है हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करे और साथ ही टेलीग्राम चैनल को भी ज्वाइन करे उसके लिए यहाँ क्लिक करें

NewsMeto
Logo