Ekadashi February: फरवरी 2024 में एकादशी कब है जानिए सही तारीख और शुभ मुहर्त क्या है

Ekadashi February 2024: एकादशी हिन्दू धर्म में जिसे व्रत, पूजा, और भक्ति के साथ मनाया जाता है इसलिए फरवरी 2024 में एकादशी कब है और इसके लिए शुभ मुहर्त क्या है यह जाना जरूरी हो जाता है।

february 2024 mein ekadashi kab hai

Ekadashi in February 2024: फरवरी 2024 का महीना आगया है और हम सभी एकादशी के आगमन का इंतजार कर रहे हैं। एकादशी हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जिसे व्रत, पूजा, और भक्ति के साथ मनाया जाता है इसलिए फरवरी 2024 में एकादशी कब है और इसके लिए शुभ मुहर्त क्या है यह जाना जरूरी हो जाता है।

तो अगर आप यह जानना चाहते है की फरवरी में एकादशी कब है और उसकी तारीख क्या है साथ ही कोनसी एकादशी है ऐसे सभी जानकारी आपको यहाँ मिलेगी तो चलिए जानते है।

फरवरी 2024 में एकादशी कब है

दरसल, एकादशी त्योहार का आयोजन हर महीने की एकादशी तिथि को किया जाता है एकादशी शब्द का मतलब होता है ‘ग्यारह’ और ‘द्वादशी’ के बीच की एक विशेष तिथि जो हिन्दू पंचांग के अनुसार निर्धारित होती है।

फरवरी 2024 में दो महत्वपूर्ण एकादशी तिथियां हैं पहली एकादशी है ‘षटतिला एकादशी’ जो कृष्ण पक्ष की एकादशी है और 5 फरवरी 2024 को मनाई जाएगी इसे भगवान विष्णु की पूजा करने से अत्यधिक पुण्य मिलता है इस तिथि को प्रारंभ 05:24 PM पर होगा और समाप्त 04:07 PM पर होगा।

दूसरी महत्वपूर्ण एकादशी है ‘जया एकादशी’ जो 20 फरवरी 2024 को आएगी यह शुक्ल पक्ष की एकादशी है और इसके पूजा व्रत से भगवान की कृपा प्राप्त होती है इस तिथि को प्रारंभ 08:49 AM पर होगा और समाप्त 09:55 AM पर होगा।

Ekadashi in February 2024

तिथिएकादशी नाम
फरवरी 6, 2024षटतिला एकादशी
पक्षकृष्ण एकादशी
वारमंगलवार
प्रारंभ – 05:24 पी एम, फरवरी 5
समाप्ति –04:07 पी एम, फरवरी 6
फरवरी 20, 2024जया एकादशी
पक्षशुक्ल एकादशी
वारमंगलवार
प्रारंभ – 08:49 ए एम, फरवरी 19
समाप्ति – 09:55 ए एम, फरवरी 20

षटतिला एकादशी का शुभ मुहर्त

6 फरवरी 2024 का दिन सुबह 7:07 बजे सूर्योदय के साथ शुरू होगा जबकि चन्द्रोदय 4:53 बजे (7 फरवरी को) होगा। सूर्यास्त शाम 6:04 बजे होगा और चन्द्रास्त दोपहर 2:00 बजे होगा।

6 फरवरी 2024 पंचांग के अनुसार विक्रम संवत 2080, नला वर्ष और शक संवत 1945, शोभकृत है इस दिन पंचांग में पूर्णिमांत मास माघ और अमांत मास पौष है यह दिन मंगलवार है और पक्ष कृष्ण पक्ष है। योग व्याघात 8:50 बजे तक और फिर हर्षण 6:09 बजे (7 फरवरी को) तक है।

6 फरवरी 2024 पंचांग के अनुसार तिथि एकादशी 4:07 बजे तक है और नक्षत्र ज्येष्ठा 7:35 बजे तक और फिर मूल नक्षत्र 6:27 बजे (7 फरवरी को) तक है। करण बालव 4:07 बजे तक और फिर कौलव 3:10 बजे (7 फरवरी को) तक है।

अशुभ समय (Inauspicious Timings)

  1. राहु कालम् (Rahu Kalam): दोपहर 3:20 से 4:42 तक
  2. यमगंड (Yamaganda): सुबह 9:51 से 11:13 तक
  3. गुलिक काल (Gulikai Kalam): दोपहर 12:35 से 1:57 तक
  4. विदाल योग (Vidaal Yoga): सुबह 7:07 से 7:35 तक
  5. वर्ज्यम् (Varjyam): दोपहर 3:12 से 4:44 तक; अगले दिन सुबह 1:53 से 6:27 तक
  6. दुर्मुहूर्त (Dur Muhurtam): सुबह 9:18 से 10:02 तक
  7. गंड मूल (Ganda Moola): सुबह 7:07 से अगले दिन सुबह 6:27 तक
  8. विंचुडो (Vinchudo): सुबह 7:07 से 7:35 तक

शुभ समय (Auspicious Timings)

  1. ब्रह्म मुहूर्त (Brahma Muhurta): सुबह 5:22 से 6:14 तक
  2. प्रातः संध्या (Pratah Sandhya): सुबह 5:48 से 7:07 तक
  3. अभिजीत (Abhijit): दोपहर 12:13 से 12:57 तक
  4. विजय मुहूर्त (Vijaya Muhurta): दोपहर 2:25 से 3:09 तक
  5. गोधूलि मुहूर्त (Godhuli Muhurta): शाम 6:01 से 6:28 तक
  6. सायं संध्या (Sayahna Sandhya): शाम 6:04 से 7:22 तक
  7. अमृत कालम् (Amrit Kalam): अगले दिन सुबह 12:21 से 1:53 तक
  8. निशिता मुहूर्त (Nishita Muhurta): अगले दिन रात 12:09 से 1:01 तक

जया एकादशी का शुभ मुहर्त

20 फरवरी 2024 का दिन सुबह 6:56 बजे सूर्योदय के साथ शुरू होगा जबकि दोपहर 2:25 बजे चन्द्रोदय होगा। सूर्यास्त शाम 6:14 बजे होगा और चन्द्रास्त अगले दिन सुबह 5:05 बजे होगा।

20 फरवरी 2024 पंचांग में विक्रम संवत 2080, नला वर्ष और शक संवत 1945, शोभकृत है इस दिन पंचांग में पूर्णिमांत मास माघ और अमांत माघ है यह दिन मंगलवार है और पक्ष शुक्ल पक्ष है। योग प्रीति 11:46 बजे तक है।

20 फरवरी 2024 पंचांग के अनुसार तिथि एकादशी 9:55 बजे तक है और नक्षत्र आर्द्रा 12:13 बजे तक और फिर पुनर्वसु नक्षत्र है। करण विष्टि 9:55 बजे तक और फिर बव करण 10:38 बजे तक है।

अशुभ समय (Inauspicious Timings)

  1. राहु कालम् (Rahu Kalam): दोपहर 3:25 से 4:50 तक
  2. यमगंड (Yamaganda): सुबह 9:45 से 11:10 तक
  3. गुलिक काल (Gulikai Kalam): दोपहर 12:35 से 2:00 तक
  4. विदाल योग (Vidaal Yoga): सुबह 6:56 से दोपहर 12:13 तक
  5. वर्ज्यम् (Varjyam): अगले दिन सुबह 1:15 से 2:59 तक
  6. दुर्मुहूर्त (Dur Muhurtam): सुबह 9:11 से 9:57 तक
  7. भद्रा (Bhadra): सुबह 6:56 से 9:55 तक

शुभ समय (Auspicious Timings)

  1. ब्रह्म मुहूर्त (Brahma Muhurta): सुबह 5:14 से 6:05 तक
  2. प्रातः संध्या (Pratah Sandhya): सुबह 5:40 से 6:56 तक
  3. अभिजीत (Abhijit): दोपहर 12:12 से 12:58 तक
  4. विजय मुहूर्त (Vijaya Muhurta): दोपहर 2:28 से 3:13 तक
  5. गोधूलि मुहूर्त (Godhuli Muhurta): शाम 6:12 से 6:37 तक
  6. सायं संध्या (Sayahna Sandhya): शाम 6:14 से 7:30 तक
  7. त्रि पुष्कर योग (Tri Pushkara Yoga): दोपहर 12:13 से अगले दिन सुबह 6:55 तक
  8. निशिता मुहूर्त (Nishita Muhurta): अगले दिन रात 12:09 से 1:00 तक
  9. रवि योग (Ravi Yoga): सुबह 6:56 से दोपहर 12:13 तक

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई है जानकारी “फरवरी 2024 में एकादशी कब है” जो आप ढूंढ़ते-ढूंढ़ते हमारी वेबसाइट पर आए थे उससे आपको मदद मिली होगी और अगर आपको वाकई में ही ऐसा लगता है कि यह जानकारी न केवल आपके लिए बल्कि आपके परिवार और दोस्तों के साथ-साथ सभी के लिए महत्वपूर्ण है तो इस जानकारी को दूसरों के साथ शेयर करने में विलंब ना करें हमारी मुलाकात आपसे फिर होगी! आपका दिन शुभ रहे!

Google NewsFacebook
WhatsAppTelegram

हमसे जुड़े रहने के लिए और हर जानकारी को अपनी भाषा हिंदी में पाने के लिए आप हमें गूगल, फेसबुक, व्हाट्सएप, टेलीग्राम जो भी आप इस्तेमाल करते हैं उस पर जुड़ सकते हैं!